Dec १०, २०१८ २०:३८ Asia/Kolkata
  • सुप्रीम कोर्ट और सीबीआई के बाद एक और भारतीय संस्था की साख को लगा झटका

भारत में कुछ दिनों पहले ही सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों ने जनता के सामने आ कर इंसाफ़ की गुहार लगाई थी और उसके बाद इस देश की सबसे बड़ी चांज एजेंसी सीबीआई में जारी घमासान अभी शांत नहीं हुआ था कि अब आरबीआई गवर्नर ने समय से पहले त्यागपत्र देकर सबको चौंका दिया है।

हमारे संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने सोमवार को अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। पटेल ने अपने इस्तीफ़े के पीछे निजी वजह बताई है। हालांकि कहा जा रहा है कि गवर्नर उर्जित पटेल और केंद्र की मोदी सरकार के बीच कई मुद्दों पर मतभेद और टकराव की स्थिति थी। इससे पहले पिछले दिनों आरबीआई की बोर्ड बैठक के बाद यह ख़बर सामने आई थी कि सरकार और उर्जित पटेल के बीच जारी मतभेदों को दूर कर दिया गया है और अब सब चीज़ें सामान्य हो गई हैं।

 प्राप्त जानकारी के मुताबिक़ सोमवार को अचानक इस्तीफा देते हुए उर्जित पटेल ने अपने बयान में कहा, “मैं व्यक्तिगत कारणों की वजह से तत्काल प्रभाव से अपने पद से इस्तीफ़ा दे रहा हूं, बीते वर्षों में आरबीआई में काम करना मेरे लिए गर्व की बात रही, इस दौरान आरबीआई के अधिकारियों, प्रबंधन और स्टाफ़ का भरपूर सहयोग मिला, मैं आरबीआई बोर्ड के सभी निदेशकों और सहकर्मियों का शुक्रिया अदा करता हूं।''

उल्लेखनयी है कि उर्जित पटेल  और केंद्र की मोदी सरकार के बीच पिछले दिनों केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता के मसले पर टकराव की स्थिति पैदा हो गई थी। ख़बर आई थी कि वित्त मंत्रालय ने रिज़र्व बैंक क़ानून की धारा-7 को लागू करने पर विचार विमर्श शुरू कर दिया है। यह धारा सरकार को जनहित के मुद्दों पर रिज़र्व बैंक गवर्नर को निर्देश देने का अधिकार देती है। दूसरी तरफ़, यह भी कहा गया कि मोदी सरकार रिज़र्व बैंक से 3.60 लाख करोड़ रुपये की मांग कर रही है, जिसका आरबीआई ने विरोध किया है, इन सब मुद्दों पर सरकार और उर्जित पटेल के बीच लगातार टकराव की ख़बरें आती रहीं और इसी खींचतान के बीच गवर्नर उर्जित पटेल ने 9 नवंबर को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात भी की थी।

लखनऊ से मोहसिन रिज़वी की रिपोर्ट सुनेंः मोदी सरकार और भारतीय रिज़र्व बैंक के बीच जारी टकराव का अंत उर्जित पटेल के इस्तीफ़े से हुआ,

इस बीच आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफ़े पर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कहा है कि, “मोदी के राज में एक और संस्थान की सुचिता नष्ट हुई, आरबीआई गवर्नर को जिस तरीक़े से हटने के लिए बाध्य किया गया है वह भारत की मौद्रिक और बैंकिंग प्रणाली पर एक धब्बा है।”  तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख और पश्चिम बंगाल राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी रिज़र्व बैंक के गवर्नर पद से उर्जित पटेल के इस्तीफ़े की पृष्ठभूमि में नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

ममता बनर्जी ने एक बयान जारी करके मोदी सरकार आरोप लगाया कि इस सरकार में सीबीआई से लेकर आरबीआई तक सभी संस्थाएं संकट में हैं। ममता ने पटेल के इस्तीफ़े का हवाला दिया और कहा, “ देश में राजनीतिक आपात की स्थिति तो थी ही अब आर्थिक आपात भी उत्पन्न हो गया है, सीबीआई से लेकर आरबीआई तक सभी संस्थाएं संकट में है, ऐसे हालत पहले कभी नहीं रहे।” (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स