Dec १६, २०१८ १९:०० Asia/Kolkata
  • ईरान एक सुंदर और नवीन सभ्यता वाला देश है: भारतीय पर्यटक प्रो. चौधरी

भारत की विश्व प्रसिद्ध पर्ल एकेडमी के एक अधिकारी ने जो हाल ही में ईरान आए थे अपनी इस यात्रा के बारे में वह कहते हैं कि “ईरान एक सुंदर और नवीन सभ्यता वाला देश है, ईरान की जनता के दिलों में बहुत अधिक प्रेम पाया जाता है।”

भारत में डिज़ाइन, फैश्न और बिज़नेस एवं मीडिया के क्षेत्र में पर्ल एकेडमी अग्रणी संस्थान मानी जाती है। विश्व प्रसिद्ध पर्ल एकेडमी के स्कूल ऑफ मीडिया एवं जनसंपर्क विभाग के प्रमुख प्रोफेसर उज्जवल के चौधरी ने हाल ही में इस्लामी गणतंत्र ईरान का दौरा किया था। वैसे तो प्रोफेसर चौधरी 12 वर्ष पूर्व भी ईरान आ चुके हैं लेकिन उस समय वह एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लेने के लिए तेहरान आए थे जिसमें उन्हें ईरान को पास से देखने का मौक़ा नहीं मिल सका था।

रोशनियों से जगमाती ईरान की राजधानी तेहरान

उज्जवल चौधरी ने भारती वेबसाइट “डेली ओके”  में अपनी ईरान यात्रा के संबंध में एक लेख लिखा है। ईरान आधुनिक सभ्यता और संस्कृति का एक संयोजन है जहां विदेशी पर्यटक दिल खोलकर आनंद ले सकते हैं। उन्होंने अपने लेख में लिका है कि इसी वर्ष नवंबर के अंतिम दिनों में मुझे दूसरी बार ईरान जाने का मौक़ा मिला और यह ऐसी यात्रा थी कि जिसकी याद हमेशा मेरे दिल और दिमाग़ में ताज़ा रहेगी। इस भारतीय पर्यटक ने कहा कि जब मैं पहली बार ईरान गया था तो केवल होटल में ही ठहरा रह गया था जहां केवल सम्मेलन में भाग लिया लेकिन शहर घूमने का कोई अवसर प्राप्त नहीं हुआ लेकिन इस बार जब ईरान गया तो यह यात्रा मेरे जीवन का यादगार सफ़र बन गया।

tehran nature bridge

ईरान यात्रा पर आए भारतीय पर्यटक उज्जवल चौधरी ने कहा कि तेहरान पहुंचने पर सबसे पहली बात जिसने मेरे ध्यान को अपनी ओर आकर्षित किया वह इस शहर की सफाई थी। आप जब चाहें किसी भी समय और किसी भी स्थान पर इस शहर शहर में जाएं आपको तेहरान हमेशा साफ नज़र आएगा। चौधरी ने बताया कि हम तेहरान के भीड़-भाड़ वाले इलाक़ों में भी गए, जैसे "तेहरान बाज़ार बुज़ुर्ग" में भी सफ़ाई वैसे ही देखने को मिल रही थी। उन्होंने कहा कि शहर के अस्पतालों पर जब मेरी नज़र पड़ी तो उनकी सफ़ाई तो देखकर में दंग रह गया और उसने मुझे  प्रभावित भी किया।

तेहरान शहर का एक ख़ूबसूरत दृश्य

उज्जवल चौधरी ने तेहरान शहर की संरचना और इंफ्रास्ट्रक्चर की तारीफ़ करते हुए कहा कि बड़े-बड़े हाईवों से लेकर छोटी गलियों तक सब पर फ़ारसी और अंग्रेज़ी में साइन बोर्ड लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि इतने बड़े शहर की ज़्यादातर इमारतें पर्यावरण के अनुकूल उपाय से बनी हुई हैं और नए शहरी परियोजनाओं में भी ऊर्जा की खपत को कम करने के लिए बहुत कोशिश की गई है। भारतीय पर्यटक ने कहा कि तेहरान में मौजूद “मिलाद टॉवर” से शहर को देखने का मज़ा ही अलग है। उन्होंने कहा कि दुनिया के ऊंचे टॉवरों में से एक मिलाद टॉवर से तेहरान की सड़कों और पुलों के विशेष निर्माण और शहर की अद्वितीय इंजीनियरिंग और डिज़ाइन को बहुत अच्छे से देखा जा सकता है। चौधरी कहते हैं कि मिलाद टॉवर से तेहरान शहर, मध्यपूर्व के दिल में यूरोपीय शहरों की तरह दिखाई देता है जो पारसी वातावरण और सुंदर मस्जिदों से सजाया गया है।

मस्जिदे जमकरान

पर्ल एकेडमी के वरिष्ठ अधिकारी एवं ईरान आए भारतीय पर्यटक उज्जवल के चौधरी बताते हैं कि एक और बात जिसने मुझे सबसे अधिक प्रभावित किया वह यह है कि तेहरान सहित ईरान के लगभग सभी शहरों गावों में गली, मोहल्लों और चौराहों के नाम उन शहीदों के नाम पर रखे गए हैं जो इराक़ द्वारा ईरान पर आठ वर्षीय युद्ध में शहीद हुए थे। चौधरी ने कहा कि आप तेहरान में अपने परंपरा और आधुनिकता के एक सुंदर संयोजन को देख सकते हैं, पारंपरिक भोजन, पारंपरिक कपड़े, लोगों की दया, अतिथियों की सेवा, संस्कृति और परिवार के केन्द्रीयता यह सब आधुनिकता के साथ मिलकर इस बात का संकेत कर रही हैं कि तेहरान परिवर्तन की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि सुंदर मस्जिदें और ख़ूबसूरत पार्कों ने इस शहर को और शानदार बना दिया है इसके अलावा हर किसी इमारत के सामने कई पेड़ और फूल से भरा बगीचा देखने को मिलता है, जबकि पार्कों में बड़े-बड़े कॉम्पलेक्स जिनमें पूल, शॉपिंग मॉल, किड ज़ोन और रेस्तरां भी शामिल हैं, शहर को अद्वितीय बना देता है।

मिलाद टॉवर

भारतीय पर्यटक बताते हैं कि सामाजिक गतिविधियों में महिलाओं की उपस्थिति और उनकी सुरक्षा और शांति अत्यंत मूल्यवान है। चौधरी ने कहा कि एक बार ईरान के दो महत्वपूर्ण वैज्ञानिकों सहित तेहरान विश्वविद्यालय एक शोधकर्ता महिला ने मुझे रात के खाने पर आमंत्रित किया और फिर रात 12 बजे महिला शोधकर्ता ने मुझे मेरे होटल पहुंचाया और स्वयं टैक्सी के माध्यम से अपने घर वापस चली गईं जो इस देश की उच्च सुरक्षा को दर्शाता है। उन्होंने बताया कि तेहरान में चाय ख़ाना आधी रात तक खुले रहते हैं और चाय, कॉफी सहित फास्ट फूड भी मिलता है। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स