Mar २१, २०१९ २०:३४ Asia/Kolkata
  • किसी अच्छे उद्देश्य के लिए अपनी पूरी शक्ति को लगा देने का नाम जेहाद हैः मौलाना कल्बे जवाद

भारत में शिया मुसलमानों के वरिष्ठ धर्मगुरू आजकल कश्मीर दौरे पर हैं। उन्होंने कश्मीर में एक कार्यक्रम में जेहाद के सही अर्थ का उल्लेख करते हुए कहा कि किसी भी अच्छे और सही काम में अपनी पूरी शक्ति लगा देने का नाम जेहाद है।

भारत प्रशासित कश्मीर से हमारे संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार, पैग़म्बरे इस्लाम (स) के उत्तराधिकारी हज़रत अली अलैहिस्सलाम के शुभ जन्म दिवस और नौरोज़ के अवसर पर पूरे कश्मीर में जश्न का माहौल है। हर ओर बड़ी-बड़ी जनसभाएं आयोजित हो रही हैं और इन सभाओं में बड़े-बड़े धर्मगुरू, बुद्धिजीवि और समाजिक एवं राजनीतिक हस्तियां भी भाग ले रही हैं। घाटी में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में हज़रत अली (अ) के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला गया।

इस बीच जम्मू में एक सेमिनार का भी आयोजन हुआ। इस सेमिनार में जहां भारत के कई वरिष्ठ धार्मिक हस्तियों ने भाग लिया वहीं दर्जनों बुद्धिजीवी भी शामिल हुए। अंजुमने इमामिया की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में भारत के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू मौलाना सैयद कल्बे जवाद ने भी भाग लिया और कार्यक्रम में मौजूद हज़ारों लोगों को संबोधित करते हुए मुसलमानों के बीच एकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि दुनिया की साम्राज्यवादी शक्तियां लगातार और भरपूर तरीक़े से इस प्रयास में हैं कि कैसे मुसलमानों के बीच फूट डाली जाए। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि यह समय ऐसा नहीं है कि हम आपसी मतभेदों में पड़े रहें बल्कि आवश्यकता इस बात की है कि हम यह सोचें कि कैसे साम्राज्यवादी शक्तियों की इन साज़िशों का मुक़ाबला करें।

कश्मीर के लोगों को संबोधित करते हुए मजलिसे ओलमाए हिन्द के महासचिव मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि, जिस महान इंसान के शुभ जन्म दिवस के अवसर पर हम यहां एक साथ इकट्ठा हुए हैं उनको मुसलमानों के किसी एक मत से जोड़ना सही नहीं है क्योंकि हज़रत अली अलैहिस्सलाम पूरे विश्व के मौला हैं। मौलाना कल्बे जवाद ने इस अवसर पर जेहाद के सही अर्थ को भी लोगों को बताया। उन्होंने कहा कि आज दुनिया में इस्लाम दुश्मन ताक़तों के एजेंट जेहाद के नाम पर मासूम लोगों का ख़ून बहा रहे हैं और जेहाद जैसे पवित्र कार्य को बदनाम करने की साज़िश रच रहे हैं। मौलाना कल्बे जवाद नक़वी ने कहा कि जेहाद एक बहुत ही महान कार्य है जिससे इंसानियत को लाभ पहुंचता है न कि नुक़सान। उन्होंने कहा कि किसी भी अच्छे और सही काम में अपनी पूरी शक्ति लगा देने का नाम जेहाद है।

उल्लेखनीय है कि भारत सहित कई अन्य देशों में 20 मार्च 2019 को पैग़म्परे इस्लाम (स) के उत्तराधिकारी हज़रत अली अलैहिस्सलाम का शुभ जन्म दिवस मनाया गया। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स