• इस तस्वीर में भूमध्यसागर के तट पर इलात एश्केलान पापइप लाइन कंपनी के तेल इकट्ठा करने वाले कन्टेनर दिखाई दे रहे हैं।
    इस तस्वीर में भूमध्यसागर के तट पर इलात एश्केलान पापइप लाइन कंपनी के तेल इकट्ठा करने वाले कन्टेनर दिखाई दे रहे हैं।

इस्लामी गणतंत्र ईरान ने इस्राईल के ख़िलाफ़ एक और क़ानूनी लड़ाई में जीत हासिल की है।

स्वीज़रलैंड के सुप्रीम कोर्ट ने एक इस्राइली कंपनी की उस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील को ख़ारिज कर दिया है जिसमें उसे आदेश दिया गया है कि वह ईरान को वह पैसे लौटाए जो उसने ईरान के साथ, इस देश में इस्लामी क्रान्ति आने से पहले, स्थापित किए संयुक्त उपक्रम के ज़रिए कमाए हैं और वह उस पर बाक़ी हैं।

ज्ञात रहे ईरान के अपदस्थ तानाशाह मोहम्मद रज़ा शाह के शासन काल में ईरान ने इस्राईली कंपनी ईलात एश्केलॉन पाइप लाइन कंपनी के साथ एक संयुक्त उद्यम स्थापित किया था ताकि ईरान का तेल भूमध्यसागर तक पहुंच सके।

यह संयुक्त उपक्रम ईरान में इस्लामी क्रान्ति आने के बाद रूक गया। इस संयुक्त उपक्रम के रुकने का कारण यह था ईरान इस्राईल को मानय्ता नहीं देता क्योंकि इस्राईल फ़िलिस्तीन की भूमि पर अवैध रूप से क़ब्ज़ा करके वजूद में आया है।

 

इस्राइली कंपनी ने इस संयुक्त उद्यम से प्राप्त आय में ईरान के भाग को लौटाने से मना कर दिया था। जिसके बाद से ईरान इस मामले में अपना अधिकार पाने की कोशिश में 1994 से लगा हुआ था। पहले उसने फ़्रांस में और फिर स्वीज़रलैंड में इस मामले में अधिकार हासिल करने की कोशिश की।

गुरुवार को ज़्यूरिख़ में स्वीज़रलैंड फ़ेडरल ट्राइब्यूनल ने इस्राइली कंपनी की उस अपील को ख़ारिज कर दिया जो उसने 27 जून के फ़ैसले के ख़िलाफ़ दायर की थी कि जिसमें उसे ईरान को पैसे लौटाने के लिए आदेश दिया गया है।

इस इस्राइली कंपनी को अब ईरान को लगभग 1 अरब 10 करोड़ डॉलर और अतिरिक्त 461000 डॉलर अदालत के ख़र्च सहित दूसरी मद में अदा करने होंगे।

 

ज्ञात रहे इससे पहले इसी महीने लोज़ान शहर में स्वीज़रलैंड के सुप्रीम कोर्ट ने इस्राइली कंपनी ट्रांस एशियाटिक ऑयल कंपनी या टाउ की ओर से दाख़िल की गयी इसी तरह की अपील को ख़ारिज कर दिया है। इस्राइली कंपनी ट्रांस एशियाटिक ऑयल कंपनी ने भी ईरान के पूर्व तानाशाह के साथ इसी तरह का संयुक्त उद्यम स्थापित किया था।

 

इस्राइली कंपनी ट्रांस एशियाटिक ऑयल कंपनी को ईरान को 1 अरब 20 करोड़ डॉलर उस तेल के अदा करने होंगे जो उसने ईरान से इस देश में इस्लामी क्रान्ति आने से पहले इस्राईल को सप्लाई किए थे। (MAQ/N)

 

 

टैग्स

Aug १२, २०१६ १३:४५ Asia/Kolkata
कमेंट्स