• सऊदी अरब दाइश, अलक़ाएदा और नुस्रा फ़्रंट से ज़्यादा बच्चों की हत्या कर रहा है, आले हबीब

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के उप राजदूत इस्हाक़ आले हबीब ने यमन में सऊदी शासन के अपराधों की अनदेखी करने पर मानवाधिकार संगठनों की आलोचना करते हुए बल दिया कि आतंकवाद के ख़िलाफ़ संघर्ष में विश्व समुदाय में भागीदार के रूप में सऊदी अरब का शामिल होना मावाधिकार और इंसानियत का अपमान है।

समाचार एजेंसी फ़ार्स के अनुसार, मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र संघ में सऊदी शासन के प्रतिनिधि के महासभा की तीसरी कमेटी में ईरान के मानवाधिकार के संबंध में व्यवहार के ख़िलाफ़ कनाडा की ओर से प्रस्तावित प्रस्ताव की समीक्षा के मौक़े पर अपमानजनक व्यवहार के जवाब में इस्हाक़ आले हबीब ने कहा कि अलक़ाएदा, दाइश और नुस्रा फ़्रंट ने मिल कर दुनिया में जितने बच्चों को जान से मारा है सऊदी अरब उससे ज़्यादा यमन में बच्चों को जान से मार रहा है।

उन्होंने इस बात का उल्लेख करते हुए कि सिर क़लम करने में सऊदी शासन और दाइश के अपराध में समानता संयोगवश घटना नहीं है, कहा कि दोनों की एक विचाधारा है और वे अपने अलावा सभी मुसलमानों और ग़ैर मुसलमानों को काफ़िर जानते हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ में सऊदी अरब के प्रतिनिधि अब्दुल्लाह अलमोअल्लेमी ने महासभा की तीसरी कमेटी की बैठक में ईरान के ख़िलाफ़ झूठे दावे दोहराते हुए इस्लामी गणतंत्र ईरान को मानवाधिकार का उल्लंघनकर्ता कहा। (MAQ/N)

Nov १५, २०१७ ०७:०३ Asia/Kolkata
कमेंट्स