• मानवाधिकार, विश्व समुदाय को अमरीका, पश्चिम या संरा का उपहार नहीं , ईरान

ईरान की न्यायपालिका में मानवाधिकार आयोग के सचिव ने कहा है कि मानवाधिकार को मानव सम्मान के आधार पर होना चाहिए और यह विश्व समुदाय के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ, अमरीका और पश्चिमी देशों की ओर से दिया जाने वाला उपहार कदापि नहीं है।

" मुहम्मद जवाद  लारीजानी" ने सोमवार को जेनेवा में अलमयादीन टीवी चैनल के साथ एक वार्ता में मानवाधिकार के बारे में पश्चिम के दोहरे मापदंडों की ओर संकेत करते हुए कहा कि अमरीकी और युरोपीय जिस मानवाधिकार की बात करते हैं वह दिखावे, दोहरे मापदंडों, नस्लभेद और स्वार्थ पर आधारित है। 

ईरान की न्यायपालिका में मानवाधिकार आयोग के सचिव ने इलाक़े में अमरीकी अपराधों का भी उल्लेख किया और कहा कि अमरीकी, लेबनान, फिलिस्तीन, यमन और अन्य देशों सहित इस इलाक़े में किये जाने वाले भयानक अपराधों में लिप्त हैं लेकिन फिर वह मानवाधिकारों की रक्षा का दावा करते नहीं थकते। 

ईरान की न्यायपालिका में मानवाधिकार आयोग के सचिव मुहम्मद जवाद लारीजानी

 

उन्होंने ने इसी तरह मानवाधिकारों की रक्षा में सऊदी अरब के पेट्रो डाॅलरों की भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि अमरीका और उसके युरोपीय घटक उन सभी अपराधों के ज़िम्मेदार हैं जो यमन, सीरिया और फिलिस्तीन में किये जा रहे हैं। 

ईरान की न्यायपालिका में मानवाधिकार आयोग के सचिव मुहम्मद जवाद लारीजानी ने कहा कि पश्चिम में मानवाधिकारों के बारे में दोहरे मापदंड का एक नमूना, वहां मुसलमानों के विचारों पर पहरा भी है। 

ईरान की न्यायपालिका में मानवाधिकार आयोग के सचिव मुहम्मद जवाद लारीजानी संयुक्त राष्ट्र संघ की मानवाधिकार परिषद की 37वीं बैठक में भाग लेने के लिए जेनेवा गये हुए हैं। (Q.A.)

टैग्स

Mar १३, २०१८ १२:४० Asia/Kolkata
कमेंट्स