वरिष्ठ नेता ने बल देकर कहा कि उनमें से एक समाज में क्रांतिकारी भावना की मज़बूती और उसकी रक्षा है और अगर परित्याग की वह भावना न होती तो निश्चित रूप से क्रांतिकारी भावना को ख़तरों का सामना होता।

31 शहरीवर अर्थात 22 सितंबर को ईरान में रक्षा सप्ताह के रूप में मनाया जाता है। 31 शहरीवर को ही इराक ने ईरान पर आक्रमण आरंभ किया था जो आठ वर्षों तक जारी रहा। ईरान में मनाया जाने वाला प्रतिरक्षा सप्ताह उस अदम्य साहस व प्रतिरोध की याद दिलाता है जिसका परिचय ईरानी राष्ट्र ने दिया था और यह प्रतिरोध उसने आशूरा की एतिहासिक घटना से सीखा है।

ईरानी राष्ट्र ने खाली हाथों से विश्व वर्चस्ववाद और उसके घटकों के मुकाबले में खड़ा होकर दर्शा दिया कि प्रतिष्ठा और आज़ादी प्रतिरोध में नीहित है।

ईरान की इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामनेई ने वरिष्ठ कमांडरों, अधिकारियों और रणबांकुरों से भेंट में बल देकर कहा कि प्रतिरक्षा काल के दौरान यद्यपि काफी जानी व माली क्षति हुई थी परंतु वर्तमान समय और भविष्य के लिए उसके महत्वपूर्ण प्रभाव हैं।

वरिष्ठ नेता ने बल देकर कहा कि उनमें से एक समाज में क्रांतिकारी भावना की मज़बूती और उसकी रक्षा है और अगर परित्याग की वह भावना न होती तो निश्चित रूप से क्रांतिकारी भावना को ख़तरों का सामना होता।

ईरान की सशस्त्र सेना ने प्रतिरक्षा सप्ताह के आरंभ होने के अवसर पर एक विज्ञप्ति जारी करके क्रांतिकारी भावना के जारी रहने पर बल दिया और कहा है कि दुश्मन को जान लेना चाहिये कि ईरानी राष्ट्र ने आशूरा से जो सीख ली है वह असत्य व अन्याय को सहन करने की अनुमति नहीं देगी।

इराक द्वारा ईरान पर थोपे गये आठ वर्षीय युद्ध के दौरान तेहरान अंतरराष्ट्रीय कानूनों के प्रति कटिबद्ध रहा परंतु सद्दाम ने इस युद्ध के दौरान अंतरराष्ट्रीय कानूनों की उपेक्षा करते हुए बारमबार ईरान के विभिन्न क्षेत्रों पर रासायनिक बमबारी की और इस कार्य में उसे अमेरिका और कुछ पश्चिमी व अरब देशों का व्यापक समर्थन प्राप्त था।

क्षेत्र में उस समय जो अशांति व्याप्त थी और और आज व्याप्त है उसके लिए ईरान का कहना है कि इन अशांतियों के लिए अधिकतर अमेरिका ज़िम्मेदार है।

बहरहाल प्रतिरक्षा काल के अनुभवों ने दर्शा दिया है कि अतिक्रमणकारियों से मुकाबले के लिए पूरी तरह तैयार रहना चाहिये और ईरान की रक्षा तैयारी, सैन्य पैरेड और युद्ध अभ्यास को इसी परिप्रेक्ष्य में देखा जा सकता है। MM

 

 

Sep २२, २०१८ २१:०४ Asia/Kolkata
कमेंट्स