• जर्मन विदेश मंत्री ने की राष्ट्रपति रूहानी से मुलाक़ात

ईरान की यात्रा पर आए जर्मनी के विदेश मंत्री फ़्रंक वॉल्टर इश्टानमायर ने तेहरान में राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी से भेंटवार्ता की है।

तेहरान दौरे पर पहुंचे जर्मन विदेश मंत्री फ़्रंक वॉल्टर इश्टानमायर ने राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी से बुधवार को मुलाक़ात की। इस मौक़े पर राष्ट्रपति रूहानी ने बल दिया कि आतंकवादियों के हथियारों व पैसों के स्रोतों पर रोक लगायी जाए। राष्ट्रपति रूहानी ने कहा है कि पिछले महीनों की घटनाओं ने यह दर्शा दिया है कि आतंकवाद, यूरोपीय संघ सहित सबके लिए ख़तरा है।

उन्होंने ईरान और गुट पांच धन एक के बीच परमाणु बातचीत की प्रक्रिया में जर्मनी की सार्थक भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि जेसीपीओए का अविलंब, सही ढंग से लागू होना, सभी पक्षों के फ़ायदे में है और इस समझौते को मज़बूत करने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा कोशिश करनी चाहिए।

ईरानी राष्ट्रपति ने कहा कि जेसीपीओए से, अन्य विषयों के संबंध में बातचीत व सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अच्छा माहौल बना है। उन्होंने इसी प्रकार कहा कि तेहरान-बर्लिन दीर्घकालिक सहयोग की बुनियाद को मज़बूत करना ज़रूरी है।

ईरान की कार्यपालिका के अध्यक्ष ने कहा कि ईरान कुछ देशों के साथ संयुक्त स्ट्रैटिजिक सहयोग के समझौते की दिशा में आगे बढ़ रहा है जबकि कुछ देशों के साथ दीर्घकालिक सहयोग के रोडमैप के बारे में उसकी सहमति हो गयी है।

इस मुलाक़ात के मौक़े पर जर्मन विदेश मंत्री फ़्रंक वॉल्टर इश्टानमायर ने भी कहा कि जेसीपीओए के लागू होने से यूरोपीय संघ और जर्मनी के लिए संबंधों का नया अध्याय शुरु हो गया है। उन्होंने कहा कि बर्लिन राजनैतिक, आर्थिक व सांस्कृतिक क्षेत्र तथा विश्वविद्यालयों के स्तर पर तेहरान के साथ संबंध में विस्तार का संकल्प रखता है।

फ़्रंक वॉल्टर इश्टानमायर ने पिछले तीन महीने के दौरान अपने दूसरे तेहरान दौरे का हवाला देते हुए, इसे तेहरान के साथ बहुआयामी संबंध विस्तार में बर्लिन की रूचि का परिचायक बताया। इसी प्रकार उन्होंने आतंकवाद के विषय का उल्लेख करते हुए इससे सामूहिक रूप से निपटपे पटने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि आतंकवाद की समस्या से निजात पाने के लिए इस बुराई को वहां से ख़त्म किया जाए जहां इसकी जड़ें हैं और क्षेत्र में चरमपंथ भी इसकी एक जड़ है जिससे निपटने की ज़रूरत है। (MAQ/N)

Feb ०३, २०१६ १६:५६ Asia/Kolkata
कमेंट्स