Dec १४, २०१८ २०:५९ Asia/Kolkata
  • ईरान अपनी वायु रक्षा प्रणाली सय्याद-3 के मिसाइलों की रेंज को बढ़ाएगा

इस्लामी गणतंत्र ईरान ने घरेलू निर्मित वायु रक्षा प्रणाली ''सय्याद-3''  की मिसाइलों की रेंज बढ़ाने का फ़ैसला किया है।

समाचार एजेंसी इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार इस्लामी गणतंत्र ईरान की ख़ातमुल अंबिया एयर डिफ़ेन्स छावनी के उप कमांडर ब्रिगेडियर जनरल ''अली रज़ा इलहामी'' ने बताया कि इस्लामी क्रांति की 40वीं वर्षगांठ के अवसर पर देश की एयर डिफेंन्स छावनी ख़ातमुल अंबिया कुछ विशेष तैयारियों में व्यस्त है। उन्होंने कहा कि हमारी तैयारियों में एक तैयारी यह भी है कि हम घरेलू निर्मित वायु रक्षा प्रणाली सय्याद-3 की मिसाइलों की रेंज को और अधिक बढ़ाने जा रहे हैं।

उप कमांडर ब्रिगेडियर जनरल अली रज़ा इलहामी ने बताया कि देश की रक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे वैज्ञानिक और वायु रक्षा प्रणाली के विशेषज्ञों द्वारा सय्याद-3 एयर डिफ़ेन्स सिस्टम की मिसाइलों की रेंज को बढ़ाने पर बहुत ही तेज़ी से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सय्याद-3 की रेंज में बढ़ोतरी से हमारा उद्देश्य केवल इतना है कि हम अपने अभियानों में और अधिक क्षमता प्राप्त करें।

याद रहे कि ईरान ने गत वर्ष जुलाई महीने में विमान भेदी मिसाइल 'सय्याद-3' की प्रोडक्शन लाइन का उद्घाटन किया था।

ईरान के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक़ सय्याद-3 मिसाइल 120 किलोमीटर की रेंज में मार करने की क्षमता रखता है और ज़मीन से 27 किलोमीटर की दूरी पर उड़ सकता है। सय्याद-3 मिसाइल एंटी राडार युद्धक विमानों, ड्रोन, क्रूज़ मिसाइल, हेली कॉप्टर और अन्य उड़ने वाली चीज़ों को बहुत ही तेज़ रफ़्तार से और बड़ी आसानी से निशाना बना सकती है। इसके अलावा सय्याद-3  इंफ़्रारेड सिस्टम से लैस है और इलेक्ट्रॉनिक युद्ध का मुक़ाबला करने की भरपूर क्षमता रखता है।

ख़ातमुल अंबिया एयर डिफेंस छावनी के डिप्टी कमांडर ने कहा कि वायु रक्षा प्रणाली बावर-373 जो ईरानी एस-300 के नाम से मशहूर है,  उसकी भी तैयारी अपने अंतिम चरण में है और बहुत ही जल्द उसका अनावरण किया जाएगा। जनरल अली रज़ा इलहामी के मुताबिक़ ईरानी रक्षा प्रणाली बावर-373 की क्षमता रूस के एयर डिफेंस सिस्टम एस-300 से अधिक है। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स