• बश्शार जाफ़री
    बश्शार जाफ़री

संयुक्त राष्ट्र संघ में सीरिया के राजदूत बश्शार जाफ़री ने कहा है कि अलक़ाएदा के आतंकी पश्चिमोत्तरी शहर अलेप्पो या हलब से नागरिकों को निकलने से रोक रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में यह बात कही।

यह बैठक हलब सहित सीरिया के दूसरे शहरों की स्थिति की समीक्षा के लिए आयोजित हुयी थी।

 

सीरिया के वरिष्ठ कूटनयिक ने कहा कि दमिश्क़ ने हलब से लोगों के निकलने के लिए 8 मार्ग निर्धारित किए हैं, जिनमें से 6 आम लोगों और 2 उन आतंकियों के लिए हैं जिन्हें सरकार ने हथियार रखने की शर्त पर आम क्षमा दी है या वे दूसरे क्षेत्रों में जाना चाहते हैं।

तकफ़ीरी आतंकवादी गुट नुस्रा फ़्रंट कि जिसे अब फ़त्हुश्शाम फ़्रंट कहा जाता है, और अहरारुश्शाम गुट, नागरिकों को बाहर निकलने से रोक रहे हैं। बश्शार जाफ़री ने बताया कि आतंकी मॉर्टर हमला कर रहे हैं और आम नागरिकों को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। बश्शार जाफ़री ने बताया कि तकफ़ीरियों ने गुरुवार को सुबह 14 लोगों को जान से मार दिया क्योंकि वे लोगों को आतंकियों के नियंत्रण वाले इलाक़े छोड़ कर जाने के लिए प्रेरित कर रहे थे।

इसी प्रकार आतंकियों ने लोगों के घरों को जलाने की भी धमकी दी है।

ज्ञात रहे अलेप्पो या हलब सीरिया का दूसरा सबसे बड़ा शहर है जो 2012 से पश्चिम में सीरियाई फ़ोर्सेज़ और पूरब में विदेश समर्थित आतंकियों के क़ब्ज़े में हैं।

गुरुवार को सीरियाई सरकार ने एकपक्षीय रूप से संघर्ष विराम लागू किया ताकि आम लोग और आतंकी पूर्वी हलब से बाहर चले जाएं।

बश्शार जाफ़री ने खेद जताते हुए कहा कि अलेप्पो के हालात अगस्त 2012 में उस वक़्त ख़राब होना शुरु हुए जब तुर्की ने अपनी सीमा आतंकियों और किराए के सैनिकों के लिए खोल दी जिन्हें सऊदी अरब और क़तर की ओर से पैसे मिल रहे थे और उन्हें अमरीका तुर्की की भूमि पर ट्रेनिंग दे रहा था। (MAQ/N)

 

टैग्स

Oct २१, २०१६ १५:१८ Asia/Kolkata
कमेंट्स