• मस्जिदुल अक़्सा पर ज़ायोनियों का हमला, पूरे क्षेत्र में तनाव

मस्जिदु अक़्सा पर कट्टरपंथी यहूदियों के हमले के बाद सोमवार को मस्जिद पास के क्षेत्रों में गंभीर तनाव की स्थिति पैदा हो गई।

फ़िलिस्तीनी सूचना केंद्र की रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को दर्जनों कट्टरपंथी याहूदियों ने पूर्व ज़योनी सांसद मूशे फिग्लन के उकसाने पर मस्जिदुल अक़्सा पर हमला कर दिया। चरमपंथी यहूदियों का एक गुट बाबुल मुग़ारबा के रास्ते मस्जिद में घुसा जिसने मस्जिदुल अक़्सा के पवित्र स्थानों का जमकर अनादर किया।

 

फ़िलिस्तीनी मीडिया से प्राप्त जानकारी के अनुसार कट्टरपंथी यहूदियों के द्वारा मस्जिदुल अक़्सा पर हुए हमले की सूचना मिलते ही मस्जिद के आसपास रहने वाले फ़िलिस्तीनी मस्जिद पहुंचे जिन्होंने चरमपंथी यहूदियों के इस हमले का विरोध किया और जमकर ज़ायोनी शासन के विरुद्ध नारे लगाए। मस्जिदुल अक़्सा में मौजूद लोगों ने बताया कि स्वयं ज़ायोनी सेना चरमपंथियीं की सुरक्षा कर रही थी और उन्हें इस बात की इजाज़त दे रही थी कि वे मस्जिद के अंदर घुसकर पवित्र स्थलों का अनादर करें।

इस बीच जब फ़िलिस्तीनी मुसलमान मस्जिद में प्रवेश करना चाह रहे थे तो ज़ायोनी सेना ने उन्हें मस्जिद में जाने की अनुमति नहीं थी। जो फ़िलिस्तीनी युवा कट्टरपंथी यहूदियों और ज़ायोनी शासन के ख़िलाफ़ नारा लगा रहे थे उनपर ज़ायोनी सैनिकों ने पर बल प्रयोग किया, जिसके कारण कई फ़िलिस्तीनी घायल हो गए।

दूसरी ओर एक अन्य सूचना के अनुसार ज़ायोनी सैनिकों ने पूर्वी बैतुल मुक़द्दस के ईसीविया टाउन पर हमला करके पूरे क्षेत्र की सड़कों और गलियों की नाकाबंदी कर दी है। ज्ञात रहे कि इस्राईली सैनिक आए दिन जार्डन नदी के पश्चिमी तट पर रहने वाले फ़िलिस्तीनियों पर दबाव बढ़ाने के लिए उनके घरों पर हमले करके युवाओं को गिरफ़्तार करके ले जाते हैं। (RZ)

 

Feb २०, २०१७ २१:४९ Asia/Kolkata
कमेंट्स