यमन की सशस्त्र सेना ने कहा है कि अगले कु छिनों के भीतर यमन की सेना और स्वयं सेवी बल के जवान नये चरण के अभियान आरंभ करेंगे जो सारे समीकरणों को तबाह कर देगा।

अलमयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, यमन की सशस्त्र सेना के प्रवक्ता शरफ़ लुक़मान ने सऊदी अरब की राजधानी रियाज़ के शाह सलमान एयर बेस पर बुरकान-2 नामक मीज़ाइल के गिरने की पुष्टि करते हुए कहा कि यह पहली बार था जब  इस छावनी पर हमले के लिए बुरकान-2 मीज़ाइल का प्रयोग किया गया।

यमन की सशस्त्र सेना के प्रवक्ता ने कहा कि रियाज़ की शाह सलमान छावनी पर मीज़ाइल हमला, यमन के मामले में संयुक्त राष्ट्र संघ के विशेष दूत इस्माईल वलद शैख़ के लिए एक संदेश था जिन्होंने कहा कि यमनियों को चाहिए कि वह अपने हथियार दुशमनों के हवाले कर दें।

ब्रिगेडिर शरफ़ लुक़मान ने यह बयान करते हुए कि बुरकान मीज़ाइल सऊदी अरब के भीतर हर लक्ष्य को भेदने की क्षमता रखता है, आशा व्यक्त की कि सऊदी अरब के अधिकारियों को यह संदेश समझकर यमन परर अपने हमलों को रोक देना चाहिए।

ज्ञात रहे कि सऊदी अरब ने अमरीका और ब्रिटेन की सहायता से 26 मार्च 2015 से यमन पर व्यापक हमले आरंभ किए हैं जिनका लक्ष्य यमन के पूर्व और त्यागपत्र दे चुके राष्ट्रपति मंसूर हादी को सत्ता में पहुंचाना था किन्तु लगभग दो वर्ष गुज़रने के बावजूद सऊदी अरब अपने किसी भी लक्ष्य में सफल नहीं हो सका है। (AK)

Mar १९, २०१७ २०:३० Asia/Kolkata
कमेंट्स