क़तर के अमीर ने तकफ़ीरी आतंकवादी गुट दाइश के क़ब्ज़े से मूसिल की आज़ादी पर ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए बग़दाद सरकार को बधाई दी है।

क़तर के अमीर शेख़ तमीम बिन हमद बिन ख़लीफ़ा आले सानी ने दाइश की ख़ुराफ़ाती ख़िलाफ़त की राजधानी माने जाने वाले इराक़ी शहर मूसिल की आज़ादी और दाइश की ख़िलाफ़त के पतन की इराक़ी प्रधान मंत्री और जनता को बधाई दी।

क़तर के अमीर ने इराक़ी प्रधान मंत्री हैदर अल-अबादी को फ़ोन करके मूसिल की आज़ादी की बधाई दी और कहा, मूसिल में आतंकवाद के मुक़ाबले में इराक़ी जनता के बलिदान और साहस की जीत हुई है और यह समस्त अरबों की जीत है, इसलिए अरब राष्ट्रों को इसे अपनी जीत मानकर ख़ुश होना चाहिए।

समझा जाता है कि तकफ़ीरी आतकंवाद का समर्थन करने वाले विशेष रूप से सऊदी अरब दाइश की ख़िलाफ़त के पतन से सदमे में है और क़तर के अमीर द्वारा इस जीत को अरबों की जीत बताया जाना, सऊदी अरब के ज़ख़्मों पर नमक छिड़कना है।

ग़ौरतलब है कि सऊदी अरब और क़तर के बीच संकट गहराने के बाद, सऊदी अरब उसके अरब सहयोगी देशों संयुक्त अरब इमारात, बहरैन और मिस्र ने 5 जून से दोहा पर कड़े प्रतिबंध लगान के बाद उसकी घेराबंदी कर रखी है।

इन 4 देशों ने क़तर की घेराबंदी ख़त्म करने के लिए दोहा के सामने 13 शर्तें रखी थीं, जिसे मानने से उसने इनकार कर दिया।

क़तर के अमीर ने इराक़ी प्रधान मंत्री से बात करते हुए कहा, निःसंदेह इराक़ी जनता अपने देश को विकास के मार्ग पर अग्रसर करेगी और दोहा समस्त क्षेत्रों में इराक़ के साथ सहयोग करने के लिए तैयार है। msm

 

Jul १६, २०१७ १५:२५ Asia/Kolkata
कमेंट्स