• सऊदी राजकुमारों की धर पकड़ से आले सऊद परिवार में इमरजेंसी जैसी स्थिति

सऊदी अरब के नए युवराज मोहम्मद बिन सलमान ने अपने विरोधी समझे जाने वाले राजकुमारों एवं वरिष्ठ अधिकारियों की धर पकड़ बड़े पैमाने पर शुरू कर दी है।

आले सऊद परिवार के जिन राजकुमारों को गिरफ़्तार करके सलाख़ों के पीछे धकेला जा रहा है, उन्होंने नए युवराज द्वारा अपने पिता और सऊदी शासक सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ के अधिकारों पर क़ब्ज़ा जमाने का विरोध किया था।

सऊदी अरब के पूर्व युवराज मोहम्मद बिन नायफ़ को गिरफ़्तार करके किसी अज्ञात स्थान स्थानांतरित कर दिया गया था, जिनका आजतक कोई अतापता नहीं है। उसके बाद रियाज़ के उप गवर्नर मोहम्मद बिन अब्दुर्रहमान को गिरफ़्तार कर लिया गया।

कहा जा रहा है कि अब्दुर्रहमान ने भी मोहम्मद बिन सलमान को सलाह दी थी कि किंग सलमान के अधिकारों के अपनी ओर स्थानांतरण में जल्दी न करें।

उसके तुरंत बाद सऊदी अरब के पूर्व शासक शाह फ़हद के बेटे अब्दुल अज़ीज़ फ़हद को गिरफ़्तार कर लिया गया। फ़हद ने ट्वीट करके कहा था कि मैं हज करने के बाद, अपने चाचा (किंग सलमान) के पास उन्हें सलाम करने जाऊंगा, लेकिन डरता हूं कहीं मेरी हत्या नहीं कर दी जाए। उसके बाद से उनका भी कोई अतापता नहीं है।

इसी प्रकार, आले सऊद परिवार की एक राजकुमारी को भी गिरफ़्तार कर लिया गया है, लेकिन अभी तक राजकुमारी की पहचान ज़ाहिर नहीं की गई है।

सऊदी अरब में शासन करने वाले परिवार आले सऊद में खलबली मची हुई है और इमरजेंसी की जैसी हालत बनी हुई है।

सऊदी राजकुमारों और उनके परिजनों को मोहम्मद बिन सलमान की अनुमति के बिना देश छोड़ने की इजाज़त नहीं है।

यह सब अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प की ओर से ग्रीन सिगनल मिलने के बाद हो रहा है। msm

 

Sep १२, २०१७ १८:१४ Asia/Kolkata
कमेंट्स