• ईरान को सम्मानीय देश बताने पर मिस्र में भिड़े सऊदी और क़तरी अधिकारी

मिस्र की राजधानी क़ाहिरा में अरब संघ की बैठक में क़तर और सऊदी अरब के अधिकारियों के बीच, जमकर शब्दों के तीर चले और नोकझोंक हुई।

मंगलवार को टीवी पर लाइव प्रसारण के दौरान, दोनों देशों के कूटनयिक एक दूसरे से उलझ पड़े।

दोनों देशों के अधिकारियों के बीच यह ताज़ा झड़प, पिछले चार महीनों से फ़ार्स खाड़ी के अरब देशों के बीच जारी संकट का नया अध्याय है।

अरब संघ की बैठक में क़तर के विदेश मामलों के राज्य मंत्री सुल्तान बिन साद अल मुरैख़ी ने अपने उद्घाटन भाषण में ईरान को एक सम्मानीय देश बताया और कहा, जब से उनके देश की घेराबंदी हुई है ईरान के साथ हमारे रिश्ते मज़बूत हुए हैं।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए अरब संघ में सऊदी अरब के राजदूत अहमद अल ख़त्तान ने कहा, ईरान को बधाई हो, और ईश्वर ने चाहा तो जल्द ही तुम इस पर पछताओगे।

ख़त्तान ने आगे कहा, अगर क़तर में हमारे बंधू यह सोचते हैं कि ईरान के साथ संबंधों से उन्हें लाभ पहुंचेगा तो वे सुन लें कि उनकी यह सोच हर तरह से ग़लत है। इस निर्णय के लिए क़तरी अधिकारियों को ज़िम्मेदार ठहराया जाएगा।

सऊदी अधिकारी ने कहा, आने वाले दिनों में यह बात साबित हो जाएगी, इसलिए हम जानते हैं कि क़तरी जनता कभी भी अपने देश में ईरानियों को भूमिका निभाने की अनुमति नहीं देगी।

क़तर के मंत्री ने सऊदी कूटनयिक के इस लहजे पर दुख प्रकट करते हुए कहा, यह धमकी है और मैं नहीं समझता हूं कि उन्हें इस अंदाज़ में बात करने और धमकी देने का कोई अधिकार है।

इसके बाद, दोनों देशों के अधिकारियों के बीच तीखी नोकझोंक शुरू हो गई और दोनों एक दूसरे से चुप रहने के लिए कहने लगे। msm

 

Sep १३, २०१७ १६:५१ Asia/Kolkata
कमेंट्स