• सीरिया में संकट और युद्ध की आग भड़काने का उद्देश्य क्षेत्र के देशों को विकास से रोकना है

सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद ने कहा कि सीरिया में संकट और युद्ध की आग भड़काने का उद्देश्य क्षेत्र के देशों को विकास से रोकना है।

बश्शार असद ने दमिश्क़ में अमरीकी, ज़ायोनी व रूढ़िवादी गठबंधन का मुक़ाबला, फ़िलिस्तीनी जनता के प्रतिरोध का समर्थन सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि शत्रु यह चाहते हैं कि क्षेत्र के देश अमरीका का नेतृत्व में बड़े देशों की वित्तीय संस्थाओं की सेवा करें।

इस सम्मेलन में सीरिया, लेबनान, फ़िलिस्तीन, यमन, जार्डन, मिस्र, इराक़, अलजीरिया, बहरैन और मोरीतानिया के राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों तथा अन्य हस्तियों ने भाग लिया। मंगलवार से शुरू होने वाला सम्मेलन बुधवार तक जारी  रहेगा।

राष्ट्रपति बश्शार असद ने जिस बिंदु को ओर संकेत किया है उसकी पुष्टि इस बात से होती है कि पश्चिमी एशिया के इलाक़े में अमरीका लतागार संकट उत्पन्न कर रहा है।

हालिया वर्षों में अमरीका को अपनी योजनाओं में बार बार नाकाम का सामना करना पड़ा है।

सीरिया के ख़िलाफ़ ज़ो साज़िश रची गई वह अब नाकाम हो चुकी है और यह देश बड़ी कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए आख़िरकार अब सामान्य हालात की ओर बढ़ रहा है।

इलाक़े में दाइश के रूप में जो संकट पैदा किया गया वह भी क्षेत्र के देशों की सूझबूझ, साहस और क़ुरबानियों के नतीजे में नाकाम हो चुका है।

इराक़ी कुर्दिस्तान को इराक़ से अलग करने का मुद्दा भी गरमाया गया मगर इराक़ ने पड़ोसियों की मदद से उसे भी हल कर लिया। अब लेबनान में एक नया संकट उत्पन्न करने की कोशिश की जा रही है और सऊदी अरब की मदद से लेबनान के प्रधानमंत्री सअद हरीरी से त्यागपत्र दिलवाया गया है। मगर एसा नहीं लगता कि यह साज़िश सफल हो पाएगी क्योंकि लेबनान के सभी गलियारे और जनता ने इस विषय में बड़ी सूझबूझ का परिचय दिया है।   

 

Nov १५, २०१७ ११:४४ Asia/Kolkata
कमेंट्स