• गिरफ़तार राजकुमारों के सामने सऊदी सरकार का प्रस्तावः पैसे दो घर जाओ!

सऊदी अरब में भ्रष्टाचार के आरोपों में गिरफ़तार राजकुमार और वरिष्ठ अधिकारी अरबों की रक़म अदा करके प्रशासन से समझौता कर रहा हैं।

सऊदी एटार्नी जनरल शैख़ सऊद अलमुजीब का कहना है कि हाई-प्रोफ़ाइल राजकुमारों और अधिकारियों ने अपनी रिहाई के बदले रक़म अदा करने पर रज़ामंदी ज़ाहिर कर दी है।

एटर्नी जनरल की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि समझौतों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इससे पहले उन्होंने कहा था कि पिछले कई दशकों के दौरान 100 अरब डालर से अधिक का घोटाला हुआ है।

राजकुमार मुतइब बिन अब्दुल्लाह को पिछले सप्ताह एक अरब डालर के बदले छोड़ा दिया गया था।

ज्ञात रहे कि गत चार जून को क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान की अध्यक्षता वाली भ्रष्टाचार निरोधक कमेटी ने सैकड़ों राजकुमारों, उद्यमियों तथा मंत्रियों को गिरफ़तार कर लिया था। गिरफ़तार किए गए लोगों में पूर्व सऊदी नरेश शाह अब्दुल्लाह के बेटे मुतइब बिन अब्दुल्लाह, पूर्व इंटेलीजेन्स चीफ़ बंदर बिन सुलतान, अरबपति व्यापारी वलीद बिन तलाल भी शामिल थे।

अपदस्थ क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन नाएफ़ को पहले से ही नज़रबंद रखा गया है।

 

Dec ०६, २०१७ १३:०७ Asia/Kolkata
कमेंट्स