• हिज़्बुल्लाह की ग्रैड मीज़ाइलों ने इस्राईल की नीदें उड़ा दीं + फ़ोटो

इस्राईल के सैन्य और रक्षा हल्क़ों ने इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह और हमास के पास मौजूद ग्रैड मीज़ाइलों को अपनी सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा ख़तरा बताया है।

राय अलयौम की रिपोर्ट के अनुसार इस्राईल के सुरक्षा हल्क़ों ने हिज़्बुल्लाह और हमास के ग्रैड मीज़ाइलों की क्षमता और इनके द्वारा विस्फोटक पदार्थों को ले जाने की ओर संकेत करते हुए इनको भविष्य में हर प्रकार के संभावित लड़ाई के लिए बड़ा ख़तरा बताया है।

यहां पर सबके लिए स्पष्ट है कि इस्राईल, हिज़्बुल्लाह से मुक़ाबले और हिज़्बुल्लाह को समाप्त करने के लिए लेबनान के विरुद्ध युद्ध छेड़ेगा जबकि ज़ायोनी युद्ध मंत्री एविग्डोर लेबरमैन ने हाल ही में कहा था कि वर्ष 1967 से लेकर अब तक इस्राईल, अरबों के साथ किसी भी युद्ध में सफल नहीं हो सका।  

इस्राईल के राजनैतिक व सुरक्षा दृष्टिकोणों को प्रतिबिंबित करने वाला हेब्रू मीडिया, बिना किसी रोकटोक के इस्राईली जनमत को यह विश्वास दिलाने के प्रयास में है कि भविष्य, अतीत से बिल्कुल अलग होगा और इस्राईल का दिल रणक्षेत्र में सैन्य शक्ति में आने रहने के बावजूद पूरी तरह से बदल जाएगा।

हेब्रू मीडिया का कहना है कि इस्राईल का आंतरिक मोर्चा, युद्ध के पहले दिन हिज़्बुल्लाह की ओर से फ़ायर किए जाने वाले चार हज़ार मीज़ाइलों को सहन करने की शक्ति नहीं रखता, यह वह चीज़ है जिसे इस्राईली समाचार पत्र येदीयूत अहारनोत ने कुछ दिन पहले अपने संस्करण में इस्राईल के सुरक्षा और सैन्य सूत्रों के हवाले से लिखा था।  

इसी बीच इस्राईल के एक वरिष्ठ सैन्य जनरल ने हेब्रू न्यूज़ एजेन्सी "वाला" से बात करते हुए कहा कि उत्तरी और दक्षिणी सीमा के चालीस किलोमीटर अंदर तक बहुत अधिक ख़तरा रहेगा और गैड मीज़ाइलें इस्राईलियों का पीछा करेंगी और इस विषय से इस्राईल की सुरक्षा एजेन्सियां भी बौखलाई हुई हैं। 

यहां पर यह बताना आवश्यक है कि हिज़्बुल्लाह और हमास तथा ग़ज़्ज़ा और सीना प्रायद्वीप के अन्य गुटों के पास बहुत अधिक मीज़ाइलें हैं।

इस इस्राईली जनरल का दावा है जिन क्षेत्रों में सबसे कम ख़तरा है वह जार्डन नदी के पश्चिमी तट और अलख़लील हैं और इन मीज़ाइलों का व्याास 122 मिलीमीटर है और यह साढ़े छह किलोग्राम विस्फोटक पदार्थ ले जाने में सक्षम हैं।

उनका कहना था कि 500 टन वाले बुरकान मीज़ाइलों ने भी जो कुछ किलोमीटर की ही मारक क्षमता रखते हैं और विस्फोटक वारहेड्स ले जाने में सक्षम है, इस्राईल की नीदें उड़ा रखी हैं। 

इस्राईली जनरल का कहना है कि दुश्मनों के पास इस प्रकार के बहुत कम ही मीज़ाइल हैं और इस्राईली सेना को पता है कि किस प्रकार इन मीज़ाइलों के फ़ायर होने के स्थान पर हवाई और ज़मीनी हमला करके इस ख़तरे से मुक़ाबला किया जाए।

इसी बीच एेसा प्रतीत होता है कि इस्राईल स्वयं को अगले युद्ध के लिए तैयार कर रहा है और अभी हाल ही में ग़ज़्ज़ा से फ़ायर होने वाले मीज़ाइलों के दस से बारह सेंकेड के बाद सायरन बजे और इस्राईली बस्तियों के निवासी विशेषकर उत्तरी सीमा के निवासी अपनी अपनी शरणस्थलियों में घुस गये। (AK)

Mar १३, २०१८ १७:१८ Asia/Kolkata
कमेंट्स