• मस्जिदुल अक़सा को बचाया जाएः बैतुल मुक़द्दस के मुफ़्ती की गुहार

अतिग्रहित बैतुल मुक़द्दस के पवित्र इस्लामी स्थलों पर ज़ायोनियों के हमले बढ़ जाने के बाद इस शहर के मुफ़्ती ने मुसलमानों और अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं से मुसलमानों के पहले क़िब्ले को बचाने की गुहार लगाई है।

ज़ायोनी सैनिकों ने बुधवार की सुबह पश्चिमी तट और अतिग्रहित बैतुल मुक़द्दस के कई स्थानों पर हमले किए और अनेक लोगों को गिरफ़्तार कर लिया। स्थानीय सूत्रों ने बताया है कि अतिग्रहणकारी ज़ायोनी सैनिकों ने 22 नागरिकों को पश्चिमी तट के विभिन्न क्षेत्रों से गिरफ़्तार कर लिया।

 

बैतुल मुक़द्दस के मुफ़्ती शैख़ मुहम्मद हुसैन ने एक बयान जारी करके ज़ायोनियों की अतिक्रमणकारी कार्यवाहियों के मुक़ाबले में बैतुल मुक़द्दस को बचाने के लिए तुरंत क़दम उठाए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि अगर इस्लामी जगत और विश्व समुदाय इस मामले में चुप रहा तो इसके अत्यंत ख़तरनाक परिणाम सामने आएंगे। बैतुल मुक़द्दस के मुफ़्ती ने मस्जिदुल अक़सा पर इस्राईली पुलिस के हमले और ज़ायोनियों द्वारा इस पवित्र स्थल के अनादर की कड़ी निंदा की है।

 

शैख़ मुहम्मद हुसैन ने कहा है कि अरब व इस्लामी राष्ट्रों को तुरंत ही ज़ायोनियों की अपमानजनक कार्यवाहियों के ख़िलाफ़ उठ खड़ा होना चाहिए और मस्जिदुल अक़सा और बैतुल मुक़द्दस के पवित्र स्थलों की रक्षा के लिए प्रभावी क़दम उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की कार्यवाहियों के जो भी परिणाम निकलेंगे उनके लिए इस्राईल ज़िम्मेदार होगा। (HN)

Jun २०, २०१८ १७:२० Asia/Kolkata
कमेंट्स