• सलाम हो एेसे साहस पर...+ वीडियो

17 वर्षीय फिलिस्तीनी लड़की, अहद अत्तमीमी अपनी सज़ा पूरी काटकर जेल से रिहा हो गयीं।

इस लड़की ने अपना 17वां जन्म दिन इस्राईल की जेल में मनाया जिसका यह मतलब है कि जब उन्हें गिरफ्तार किया गया तो वह कानूनी तौर पर बालिग़ नहीं थी और कानूनी तौर अब तक बालिग नहीं हुई हैं। उन्होनें इस्राईली जेल से रिहा होने के बाद संघर्ष पर बल दिया।

अहद अत्तमीमी ने दो ज़ायोनी सैनिकों को ज़ोरदार थप्पड़ रसीद किए थे जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था और उसके बाद अहद, ज़ायोनी शासन के विरुद्ध प्रतिरोध का प्रतीक बन कर उभरीं।

अहद अत्तमीमी उन इस्राईली सैनिकों से उलझ पड़ी थीं, जो उनके घर में घुस गए थे। इस घटना से कुछ ही देर पहले एक इस्राईली सैनिक उनके 14 वर्षीय चचेरे भाई के सिर में गोली मार दी थी और उनके घर पर सीधे गैस के गोले फ़ायर करके खिड़की के शीशे तोड़ दिए थे।

अहद के पिता ने अदालत में चीख कर कहा था कि उनकी मेरी बेटी बहुत बहादुर है क्योंकि वह एक कार्यकर्ता है, वह बचपन से ही ग़लत चीज़ों के लिए आवाज़ उठती आयीं है इसलिए उनको किसी की मदद या हमदर्दी की ज़रूरत नहीं है। वह अपने हक़ की लड़ाई खुद लड़ सकती है।

अहद ने बचपन से ही फ़िलिस्तीनी लोगों के विरुद्ध हो रहे अपराधों और अत्याचारों के विरुद्ध आवाज़ उठाई है और उठती रहेंगी। अहद इससे पहले भी कई विरोध प्रदर्शन करती नज़र आई हैं। 

अहद तमीमी की गिरफ़्तारी में पूरी दुनिया में प्रदर्शन हुए और उसकी आज़ादी के लिए भारी दबाव डाला किन्तु ज़ायोनी शासन किसी दबाव में नहीं आया और उसने अहद को जेल में ही बंद रखा। हर व्यक्ति अपने अपने हिसाब से अहद अत्तमीमी के साहस को सराह रहा है जबकि लेबनान के एक गायक ने फ़िलिस्तीन की इस साहसी लड़की को इस प्रकार श्रद्धा प्रकट की...

 

Jul ३०, २०१८ २०:१६ Asia/Kolkata
कमेंट्स