• संयुक्त अरब अमीरात में अवैध तरीक़े से रहने वालों के लिए अच्छा मौक़ा

संयुक्त अरब अमीरात में रह रहे ग़ैर-क़ानूनी आप्रवासियों के लिए इस देश को क़ानूनी तौर पर छोड़ने का मौक़ा है क्योंकि इस देश की सरकार ने सशर्त माफ़ी का एलान किया है।

यूएई की मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक़, संयुक्त अरब अमीरात सरकार ने ग़ैर-क़ानूनी और अवैध रूप से वीज़ा समाप्त होने के बाद इस देश में रहने वाले आप्रवासियों के लिए सशर्त माफ़ी का ऐलान किया है। रिपोर्ट के अनुसार, अवैध रूप से यूएई में रहने वाले आप्रवासियों के लिए सशर्त माफ़ी की योजना का उद्देश्य ग़ैर-क़ानूनी तरीक़े से रहने वाले विदेशियों को बिना किसी जुर्माने और सज़ा के संयुक्त अरब अमीरात से बाहर जाने के लिए सुविधा प्रदान करना है।

पहली जुलाई से शुरू होने वाली एमेनेस्टी स्कीम, 31 अक्टूबर तक जारी रहेगी, इस दौरान स्वेच्छा से संयुक्त अरब अमीरात छोड़ने वाले किसी भी अवैध प्रवासी पर किसी भी तरह की कोई कार्यवाही नहीं की जाएगी बल्कि यूएई से निकलने के लिए उसे वहां की सरकार की ओर से मदद और सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।

उल्लेखनीय है कि मध्यपूर्व के जानकारों का मानना है कि सऊदी अरब और उसके गठबंधन में शामिल देशों ने जब से यमन पर पाश्विक हमले करना आरंभ किए हैं तब से अब तक उनकी इस युद्धोन्मादी नीति के कारण इन देशों की अर्थव्यवस्था काफ़ी ख़राब हुई है और इसी स्थिति के मद्देनजर संयुक्त अरब अमीरात ने अप्रवासियों को निकालने का फ़ैसला किया है। दूसरी ओर सऊदी अरब तो सैकड़ों आप्रवासियों को ज़बरदस्ती और बकाया भुगतान दिए बिना देश से निकाल चुका है। (RZ)

 

Aug ०२, २०१८ २२:१२ Asia/Kolkata
कमेंट्स