• फ़िलिस्तीनी मुद्दे के विरुद्ध षड्यंत्र जारी हैंः हनिया

फ़िलिस्तीन के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हमास के राजनैतिक कार्यालय के प्रमुख इस्माईल हनिया ने कहा है कि कुछ देशों के प्रयासों के बावजूद, फ़िलिस्तीनी, फ़िलिस्तीनियों के विरुद्ध सबसे ख़तरनाक षड्यंत्र अर्थात डील आफ़ द सेन्चुरी को मरण शैय्या पर देख रहे हैं।

फ़िलिस्तीनी इन्फ़ामेश्न सेन्टर की रिपोर्ट के अनुसार हमास के राजनैतिक कार्यालय के प्रमुख इस्माईल हनिया ने ग़ज़्ज़ा पट्टी में ईदुल अज़हा के अपने भाषण में कहा कि फ़िलिस्तीनी राष्ट्र ने सांठगांठ वार्ता को बंद गली में पहुंचा दिया और अब फ़िलिस्तीनी ओस्लो समझौते पर प्रतिबद्ध नहीं हैं।

श्री इस्माईल हनिया ने यह बयान करते हुए कि फ़िलिस्तीनी प्रशासन को भी इस्राईल के साथ सुरक्षा सहयोग बंद कर देना चाहिए, कहा कि फ़िलिस्तीनियों का राष्ट्रीय एकता को व्यवहारिक बनाने के लिए, राष्ट्रीय एकता सरकार के गठन तथा फ़िलिस्तीन के अंदर और बाहर समस्त फ़िलिस्तीनियों की उपस्थिति से व्यापक चुनाव का आयोजन आवश्यक है।

इस्माईल हनिया ने कहा कि हमास की हालिया कोशिश, ग़ज़्ज़ा के अत्याचारपूर्ण परिवेष्टन को समाप्त करने के लिए है और इसका डील आफ़ द सेन्चुरी से कोई लेना देना नहीं है और हमास कभी भी प्रतिरोध और अपने राष्ट्रीय सिद्धांतों से पीछे नहीं हटेगा। 

डील आफ़ सेंचुरी के बारे में अभी कोई औपचारिक घोषणा तो नहीं की गई है लेकिन इसके संबंध में जानकारियां लीक होकर आ रही हैं। इन जानकारियों से पता चलता है कि इस डील में मिस्र और जार्डन की भी महत्वपूर्ण भूमिका है।

बताया जाता है कि इस डील के तहत ग़ज़्ज़ा पट्टी के इलाक़े को पश्चिमी तट के इलाक़े से पूरी तरह अलग कर दिया जाएगा। ग़ज़्ज़ा वासियों के लिए पीने के पानी, बिजली, अन्य देशों की यात्रा की सुवधा, बंदरगाह और एयरपोर्ट का बंदोबस्त किया जाएगा। (AK)

Aug २१, २०१८ १८:१७ Asia/Kolkata
कमेंट्स