• अपमान की ज़िंदगी से इज़्ज़त की मौत बेहतर हैः सैयद अब्दुल मलिक + वीडियो

यमन के जनांदोलन अंसारुल्लाह के प्रमुख सैयद अब्दुल मलिक बदरुद्दीन अलहूसी ने कहा कि उनका देश दुश्मनों की अवैध मांगों के सामने झुकने वाला नहीं है।

आशूरा के दिन राजधानी सनआ में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के श्रद्धालुओं के विशाल समूह को संबोधित करते हुए सैयद अब्दुल मलिक बदरुद्दीन अलहूसी ने कहा कि सऊदी गठबंधन यमनी जनता को झुकाना चाहता है किन्तु वह कदापि दुश्मनों की अवैध मांगों के सामने नहीं झुकेगी और सैयदुश्शोहदा हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्लाम की तरह यही कहेगी कि हयहात मिन्नाज़िल्ला अर्थात अपमान की ज़िंदगी से इज़्ज़त की मौत बेहतर है।

अंसारुल्लाह के प्रमुख यमन पर क़ब्ज़े के लिए सऊदी और इमाराती गठबंधन के प्रयासों की ओर संकेत करते हुए कहा कि प्रतिरोध द्वारा इस गठबंधन के समस्त षड्यंत्रों को नाकाम बना दिया जाएगा।

उन्होंने यमनी जनता से अपील की है कि वह पश्चिमी तटवर्ती क्षेत्रों पर सऊदी-इमाराती गठबंधन के हमलों के मुक़ाबले में यमनी सेना और स्वयं सेवी बलों का समर्थन करें और उनके साथ शामिल होकर हमलावरों से युद्ध करें।

सैयद अब्दुल मलिक बदरुद्दीन अलहूसी ने कहा कि हमलावर गठबंधन की यमनियों से दुश्मनी की वजह यह है कि जनता अपनी स्वतंत्रता और प्रतिष्ठा पर सौदेबाज़ी के लिए तैयार नहीं है।

उन्होंने एक बार फिर फ़िलिस्तीन सहित मुसलमानों के समस्त महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में अंसारुल्लाह के प्राचीन दृष्टिकोण को दोहराते हुए कहा कि हम पूरी शक्ति के साथ फ़िलिस्तीनी जनता के स्वतंत्रता आंदोलन का समर्थन करते हैं। (AK)

 

टैग्स

Sep २०, २०१८ २१:४५ Asia/Kolkata
कमेंट्स