Dec १०, २०१८ १५:४९ Asia/Kolkata
  • लेबनानी सीमा के क़रीब तैनात इस्राईली बक्तरबंद गाड़ियों की छत पर लगी मशीन गनें कहां ग़ायब हो गईं? क्या हिज़्बुल्लाह की ओर से इस्राईली सेना को कोई कठोर संदेश है?

दक्षिणी लेबनान की सीमा के क़रीब तैनात इस्राईली सेना की दो बक्तरबंद गाड़ियों की छत पर लगी मशीन गनों का अचानक ग़ायब हो जाना इस्राईली सेना के लिए बहुत बड़ा झटका है और इससे हिज़्बुल्लाह आंदोलन और उसके सैनिकों की ताक़त का चिन्ह है जिन्होंने संभावित रूप से इस्राईली सेना के भीतर बड़ी पेशावराना तरीक़े से सेंध लगाई।

इस घटना पर ग़ौर किया जाए तो इस समय जब सीमावर्ती इलाक़ों में हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटेजिक सुरंगों को पता लगाने के नाम पर इस्राईली सेना ने इस नार्थ शील्ड के नाम से सैनिक आप्रेशन शुरू कर रखा है, इस घटना के पीछे दो ही कारण समझ में आते हैं।

पहली संभावना यह है कि हिज़्बुल्लाह के लड़ाकों ने ख़ामोशी से सीमा पार की या सुरंगों की मदद से इस्राईली सैनिकों की बक्तरबंद गाड़ियों तक पहुंचे और दोनों बक्तरबंद गाड़ियों पर लगी मशीन गनें उन्होंने उतारीं और वापस चले गए। इस तरह हिज़्बुल्लाह ने इस्राईली सेना को अपमानित भी किया और इस्राईली नेतृत्व को अपना कड़ा संदेश भी पहुंचा दिया।

दूसरी संभावना यह है कि ख़ुद इस्राईली सैनिकों ने यह दोनों मशीन गनें बिचौलियों या हिज़्बुल्लाह के सदस्यों को बेच दी हैं और इसके बदले पैसा या मादक पदार्थ हासिल किया हो।

शायद इस दूसरी संभावना के बारे में पढ़कर कुछ लोगों को आश्चर्य हो और आश्चर्य होना स्वाभाविक भी है लेकिन हम यह बात पूरे विश्वास से कह सकते हैं कि इस्राईल की सेना दुनिया की सबसे भ्रष्टाचारी सेना है। लेखक को यह बात फ़िलिस्तीनी प्रशासन के प्रमुख यासिर अरफ़ात ने बताई थी। उन्होंने कहा था कि वह पैस देकर ख़ुद इस्राईली सैनिकों और जनरलों से आधुनिक हथियार ख़रीद लेते हैं और उन्होंने इस्राईल से लड़ने वाले अपने बहुत से संघर्षकर्ताओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए इस्राईली जनरलों को रिश्वत देकर काम निकाला।

फिर भी हमारे विचार में पहली संभावना अधिक प्रबल है अर्थात हज़्बुल्लाह की स्पेशल फ़ोर्स के कमांडोज़ इस्राईली ठिकानों तक पहुंचे होंगे और उन्होंने दो बकतरबंद गाड़ियों पर लगी मशीन गनें वहां से निकालीं होंगी और पुनः दक्षिणी लेबनान में स्थित अपने ठिकाने में लौट गए होंगे। हो सकता है कि हमें यह दोनों मशीन गनें बैरूत के दक्षिणी ज़ाहिया इलाक़े में किसी प्रेस कान्फ़्रेंस में या हिज़्बुल्लाह के मलीता संग्रहालय में नज़र आएं जहां हिज़्बुल्लाह ने इस्राईली सैनिकों से छीने गए हथियार रखे हैं या फिर यह दोनों शीन गनें हमें अलमनार अथवा अलमयादीन टीवी चैनल के स्क्रीन पर नज़र आएं।

हक़ीक़त यह है कि हिज़्बुल्लाह एक बड़ी ताक़त बन चुका है जिससे इस्राईली सेना और इस्राईली नेतृत्व थर थर कांपते हैं क्योंकि आए दिन उन्हें हिज़्बुल्लाह की किसी नई ताक़त और नई उपलब्धि का पता चलता है और शायद इन दोनों मशीन गनों को निकाल ले जाना भी इस्राईली नेतृत्व के लिए एक कड़ा संदेश हो।

हिज़्बुल्लाह के उप महासचिव शैख़ नईम क़ासिम ने जो संगठन के भीतर प्रधानमंत्री वाली भूमिका रखते हैं औ स्ट्रैटेजिक योजनाकारों में गिने जाते हैं ईरान के अलवेफ़ाक़ अख़बार से बातचीत में कहा कि इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारे मिसाइलों की रेंज में है। उन्होंने आगे कहा कि इस्राईल का कोई भी स्थान एसा नहीं है जो हिज़्बुल्लाह के मिसाइलों की रेंज से बाहर हो।

सीमा पर हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटेजिक सुरंगे तलाश करने के नाम पर नेतनयाहू की ओर से अंजाम दिए जाने वाले नार्थ शील्ड सैन्य आप्रेशन पर हिज़्बुल्लाह की ओर से यह बड़ा दिलचस्प और स्पष्ट संदेश है। हिज़्बुल्लाह की ताक़त ज़मीन के नीचे नहीं ज़मीन के ऊपर है और इस्रईली सेना की बकतरबंद गाड़ियों से दो मशीन गनों का ग़ायब हो जाना वास्तव में यह संदेश देता है कि हम ज़मीन के भीतर से भी तुम्हारे पास पहुंच सकते हैं। यदि तुम एक टनल ध्वस्त करोगे तो हम तत्काल सात नई सुरंगें बना लेंगे  और यदि तुमने लेबनान की सीमा का उल्लंघन करने का दुस्साहस किया तो निश्चित रूप से तुम्हें पछताना पड़ेगा जैसा कि सैयद हसन नसरुल्लाह ने अपनी हालिया चेतावनी में कहा है और यह चेतावनी जारी है और आने वाले दिनों में बहुत सी चौंकाने वाली घटनाएं होंगी।

साभार रायुल यौम

टैग्स

कमेंट्स