Mar २२, २०१९ २०:१८ Asia/Kolkata
  • अमेरिका, यमन युद्ध की समाप्ति में सबसे बड़ी बाधाः अंसारुल्लाह

यमन के जन आंदोलन अंसारुल्लाह ने अमेरिका को अपने देश में जारी युद्ध की समाप्ति के रास्ते में सबसे बड़ी बाधा बताया है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, यमन के प्रतिरोध जन आंदोलन अंसारुल्लाह के राजनीतिक कार्यालय के सदस्य मोहम्मद अल-बोख़ैती ने कहा है कि अमेरिका और उसके एजेंट यमन में जारी युद्ध को समाप्त नहीं होने देना चाहते और युद्धबंदी को केवल अलहुदैदा तक ही सीमित रखना चाहते हैं। अल-बोख़ैती ने कहा कि अमेरिका, यमन के ख़िलाफ़ जारी सऊदी अरब और उसके सहयोगियों के पाश्विक हमलों का सबसे बड़ा भागीदार है। उन्होंने कहा कि यमन में बहने वाले एक-एक बूंद ख़ून का जितना सऊदी अरब ज़िम्मेदार है उतना ही अमेरिका भी ज़िम्मेदार है।

अंसारुल्लाह के राजनीतिक कार्यालय के सदस्य ने कहा कि यमन की जनता को अमेरिका से कोई मानवीय उम्मीद नहीं है क्योंकि अमेरिका की ही मदद से आज अवैध ज़ायोनी शासन इस्राईल ने फ़िलिस्तीनियों को अपने ही देश में दर-दर भटकने पर मजबूर कर दिया है और आज फ़िलिस्तीन की जनता ज़िंदगी की जंग लड़ रही है। उन्होंने कहा कि वास्तव में इस पूरे क्षेत्र को युद्ध की आग में किसी ने झोंका है तो वह केवल और केवल अमेरिका ही है।

इस बीच यमन के सरकारी टीवी चैनल अल-मसीरा ने ख़बर दी है कि पश्चिमी यमन के “इमरान” प्रांत के “क़ुफ़्ले उज़्र” शहर पर प्रतिबंधित क्लेस्टर बमों द्वारा की गई बमबारी से एक मासूम बच्चा हताहत हो गया है जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र संघ सहित लगभग सभी अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों द्वारा यमन में दी जा रही मानव त्रासदी की चेतावनी के बावजूद सऊदी अरब अपने कुछ अरब देशों की सहायता और अमेरिका एवं इस्राईल की मदद से यमन पर हर दिन बमबारी कर रहा है। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स