• अमरीका के राष्ट्रपति चुनाव में धांधली की शंका बाक़ी

डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बावजूद आमजनमत और संचार माध्यमों में इस बात की चर्चा जारी है कि अमरीका के राष्ट्रपति चुनावों में धांधली हुई है।

वाइट हाउस के प्रवक्ता शान स्पाएसर ने कहा कि डोनाल्ड ट्रपं, इलक्टोरल कालेज के आधार पर राष्ट्रपति पद का चुनाव जीते हैं।  उन्होंने कहा कि ट्रंप को जनता के समर्थन पर भरोसा है।

वाइट हाउस के प्रवक्ता ने यह बात पत्रकारों के उस प्रश्न के उत्तर में कही कि राष्ट्रपति चुनावों में धांधली की बातें कही जा रही हैं।  इससे पहले ट्रंप भी चुनाव में धांधली की बात को रद्द कर चुके हैं।  ट्रंप ने यह भी कहा था कि यदि तीस लाख से पचास लाख अवैध अप्रवासियों को मत देने का अधिकार नहीं होता तो वे अपनी प्रतिस्पर्धी हिलैरी क्लिंटन की तुलना में अधिक वोट पाते।  बताया जा रहा है कि ट्रंप की तुलना में हिलैरी क्लिंटन को तीन मिलयन अधिक मत प्राप्त हुए थे।  इसके बावजूद इलक्टोरल कालेज के आधार पर ट्रंप को अमरीका का राष्ट्रपति चुना गया।

हालांकि अमरीका में यह कोई पहला उदाहरण नहीं है कि राष्ट्रपति पद का कोई प्रत्याशी, कम वोट हासिल करने के बावजूद चुनाव में जीत गया हो।  लेकिन इसी के साथ यह पहला उदाहरण है कि जब राष्ट्रपति पद का एक प्रत्याशी इतने अधिक अंतर के बावजूद अमरीका का राष्ट्रपति बना है।  इससे पहले अपने चुनावी अभियान में ट्रंप कहते आए हैं कि चुनावों में धांधली की संभावना पाई जाती है और शासन व्यवस्था, सुव्यवस्थित ढंग से चुनाव में धांधली करवाकर हिलैरी क्लिंटन को राष्ट्रपति बनवा सकती है।

बहरहाल अब डोनाल्ड ट्रंप अमरीका के राष्ट्रपति बन गए हैं किंतु अमरीका सहित विश्व के कई देशों में उनके विरोध में प्रदर्शन किये जा रहे हैं जिनमें सबसे अधिक विरोध प्रदर्शन स्वंय अमरीकी नगरों में हो रहे हैं। 

  

टैग्स

Jan २५, २०१७ १९:१९ Asia/Kolkata
कमेंट्स