• भारी विरोध के बावजूद पाकिस्तान ने राहिल शरीफ़ को एनओसी दे दी

पाकिस्तान के पूर्व सैन्य प्रमुख जनरल राहिल शरीफ़ को सऊदी अरब की अध्यक्षता में तथाकथित इस्लामी सैन्य गठबंधन के प्रमुख के लिए एनओसी जारी कर दिया गया जिसके बाद वह सऊदी अरब रवाना हो गये।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार जनरल रिटार्यड जनरल राहिल शरीफ़ को लेने के लिए सऊदी अरब से विशेष जहाज़ लाहौर पहुंचा था।

पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख़ाजा आसिफ़ ने जियो न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार की ओर से जनरल राहिल शरीफ़ को क़ानून के अनुसार एनओसी दिया गया।

दूसरी ओर सैन्य सूत्र ने डान से बात करते हुए बताया कि जनरल राहिल शरीफ़ को एनओसी जारी करने की मंज़ूरी जनरल हेडक्वाटर की ओर से भी दे दी गयी। मीडिया रिपोर्टस के अनुसार पाकिस्तान के पूर्व सेना प्रमुख जनरल राहिल शरीफ़ की नौकरी की अवधि तीन वर्ष के लिए होगी।

अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि इस संबंध में विपक्षी दलों को विश्वास में लिया गया है या नहीं क्योंकि विपक्षीय दलों की ओर से अशंका व्यक्त की गयी थी कि यह सैन्य गठबंधन किसी इस्लामी देश के विरुद्ध प्रयोग हो सकता है।

ज्ञात रहे कि दिसंबर 2015 में सऊदी अरब की ओर से आतंकवाद के विरुद्ध लड़ने के लिए इस्लामी देशों का सैन्य गठबंधन बनाने की घोषणा की गयी थी किन्तु यमन, इराक़ और सीरिया में सऊदी अरब के खुले हस्तक्षेप से इस गठबंधन के लक्ष्य संदेह के घेरे में हैं।

आरंभ में इस गठबंधन में 34 देश शामिल थे किन्तु बाद में अन्य देशों के शामिल होने से इस की की संख्या 41 हो गयी। पाकिस्तान आरंभ में इस गठबंधन में शामिल होने के बारे में शंका का शिकार था किन्तु बाद में सऊदी अरब के दबाव में यह देश शामिल हो गया।

नवंबर 2016 में पाकिस्तानी सेना के पूर्व प्रमुख जनरल राहिल शरीफ़ के रिटार्यडमेंट के बाद निरंतर यह चर्चा हो रही थी कि वह इस्लामी गठबंधन के प्रमुख का दायित्व संभालेंगे किन्तु आरंभ में सरकारी स्तर पर किसी ने इसकी पुष्टि नहीं की थी।

मार्च के महीने में पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख़ाजा आसिफ़ ने जनरल राहिल शरीफ़ को तथाकथित इस्लामी देशों के सैन्य गठबंधन का कमान्डर बनाए जाने की पुष्टि की थी। पाकिस्तान के विभिन्न विपक्षी दलों ने सरकार के फ़ैसले का विरोध करते हुए कहा था कि इससे सांप्रदायिक तनाव बढ़ सकता है। (AK)

 

Apr २१, २०१७ २२:२२ Asia/Kolkata
कमेंट्स