• ज़िम्बाब्वे की सेना ने बग़ावत की ख़बर का किया खंडन

ज़िमबाब्वे की सेना ने इस बात का खंडन किया है कि देश की सेना ने विद्रोह कर दिया है।

राजधानी हरारे में कई धमाके होने की रिपोर्ट आने के बाद अटकलें तेज़ हो गईं कि चरम बिंदु पर पहुंच चुके राजनैतिक तनाव के बीच सेना ने विद्रोह कर दिया है।

सेना ने बुधवार को एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति मोगाबे पूरी तरह सुरक्षित हैं। सेना की ओर से यह घोषणा धमाकों के बाद की गई है।

अमरीकी दूतावास ने एक बयान में कहा कि अनिश्चित स्थिति के चलते बुधवार को दूतावास बंद रहेगा। ब्रिटेन ने भी अपने नागरिकों को सुझाव दिया है कि वह अपने घरों से बाहर निकलने से परहेज़ करें।

मंगलवार को राजधानी हरारे में सैनिक बकतरबंद गाड़ियों को देखने के बाद लोगों में भय फैल गया। इससे एक दिन पहले राष्ट्रपति द्वारा अपने डिप्टी को हटाए जाने के के मुद्दे पर राजनैतिक विवाद बहुत अधिक बढ़ गया था और सेना प्रमुख ने कहा था कि वह राजनैतिक तनाव शांत करने के लिए हस्तक्षेप कर सकते हैं।

राष्ट्रपति मुगाबे ने पिछले सप्ताह उप राष्ट्रपति एमरसन म्नांगाग्वा को अपदस्थ कर दिया था और उन पर आरोप लगाया था कि वह सत्ता हड़पने की योजना बना रहे हैं।  म्नांगाग्वा जिन्हें सेना का समर्थन प्राप्त है देश से भाग निकले और उन्होनें आरोप लगाया कि उन्हें और उनके परिवार को धमकियां दी जा रही थीं।

बताया जाता है कि राष्ट्रपति मोगाबे की पत्तनी ग्रेस मुगाबे अब उप राष्ट्रपति का पद संभालेंगी।

 

Nov १५, २०१७ ०९:५६ Asia/Kolkata
कमेंट्स