• हज़ारों मुसलमानों के हत्यारे को आजीवन कारावास की सज़ा!

बोस्निया में दो दशक पहले हज़ारों मुसलमानों का जनसंहार और युद्ध अपराधों के आरोपी जिनको “बोस्नियाई कसाब” भी कहा जाता है अंतर्राष्ट्रीय अदालत ने आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई है।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार “नीदरलैंड” के शहर "द हेग" में स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के युद्ध अपराधों के ट्रिब्यूनल ने बोस्निया के हर्ज़ेगोविना के हज़ारों मुसलमानों के जनसंहार विशेषकर सर्बेनिस्ता में वर्ष 1995 के अंत में 8000 मुसलमानों के नरसंहार और अमानवीय अत्याचार करने के मुख्य आरोपी “बोस्नियाई कसाब” रैट्को म्लाडिच को आजीवन क़ैद की सज़ा सुनाई गई है।

रैट्को म्लाडिच द्वारा बोस्नियाई मुसलमानों का नरसंहार और मानवता के विरुद्ध अपराधों के आरोपी की सुनवाई कर रही “द इंटरनेशनल क्रिमिनल ट्राइब्यूनल फॉर द फॉर्मर युगोस्लाविया” (आईसीटीवाई) ने 74 वर्षीय म्लाडिच के अपराधों को मानवता के इतिहास के सबसे जघन्यतम अपराधों में एक माना है।

फ़ैसला सुनाते हुए अंतर्राष्ट्रीय अदालत के जज ने कहा कि म्लाडिच ने बोस्निया के हर्ज़ेगोविना शहर में मुसलमानों पर गोलीबारी और उन्हें घात लगाकर मारने की सभी प्रक्रिया पर स्वयं निगरानी की थी। ये अपराध मानवता के ख़िलाफ़ सबसे गंभीर अपराधों में से एक हैं। सजा सुनते ही “बोस्नियाई कसाब” रैट्को म्लाडिच अदालत में शोर मचाने लगा जिस पर उसे अदालत से बाहर निकाल दिया गया।

इस अवसर पर अदालत के बाहर पूर्व यूगोस्लाविया में इस अत्याचार का शिकार होने वाले मुसलमानों के परिजन अपने-अपने प्रियजनों की तस्वीरों के साथ मौजूद थे। परिजनों ने बताया कि 7000 से अधिक लोग अभी भी लापता हैं। (RZ)

 

Nov २३, २०१७ २०:२३ Asia/Kolkata
कमेंट्स