• ईरान में होने वाले उपद्रव के पीछे अमेरिका का हाथ है

एक अमेरिकी विचारक ने कहा है कि ईरान में होने वाले उपद्रव के पीछे अमेरिका और इस्राईल का हाथ है।

स्टीफ़ेन लन्डनमैन ने ईरान में उपद्रव करवाने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और जायोनी प्रधानमंत्री बिनयामिन नेतेनयाहू के बीच होने वाली सहमति की ओर संकेत किया और कहा कि हालिया दिनों में ईरान में होने वाले उपद्रवों का दिशा- निर्देशन सीआईए और मूसाड की ओर से किया गया है।

उन्होंने मेहर समाचार एजेन्सी से वार्ता में कहा कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि ईरान में होने वाले उपद्रवों का दिशा- निर्देशन अमेरिका और इस्राईल की गुप्तचर सेवाएं कर रही हैं और यह योजना सफल नहीं होगी।

स्टीफ़ेन लन्डनमैन ने कहा कि अमेरिका और इस्राईल एसी स्थिति में उपद्रव का समर्थन कर रहे हैं जब अवैध अधिकृत फिलिस्तीन में लोग नेतेनयाहू के खिलाफ लगातार पांच सप्ताह प्रदर्शन कर रहे हैं और ट्रम्प भी अमेरिका के भीतर उन संचार माध्यमों का कड़ाई से दमन कर रहे हैं जो उनकी आलोचना करते हैं।

इसी बीच राष्ट्रसंघ में अमेरिका की पूर्व राजदूत सामन्था पावर ने कहा है कि हम उस सीमा तक ईरानी जनता के साथ हैं कि उसे अमेरिका में प्रवेश की अनुमति नहीं देंगे!

इसी प्रकार अमेरिका की पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्यूज़न राइस ने ईरान में होने वाले कुछ प्रदर्शनों के संबंध में ट्रम्प के हस्तक्षेप की आलोचना की और उनका आह्वान किया है कि वे चुप रहें जबकि वाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सेन्डर्ज़ ने स्वीकार कहा है कि अमेरिका उपद्रवियों के साथ है और वह उनका समर्थन कर रहा है।

अमेरिका और इस्राईल के दूसरे अधिकारियों और संचार माध्यमों ने ईरान में मंहगाई के खिलाफ होने वाले प्रदर्शनों का दिशा- निर्देशन हिंसा और उपद्रव की ओर करने का प्रयास किया है। MM

 

 

टैग्स

Jan ०२, २०१८ १३:५१ Asia/Kolkata
कमेंट्स