पाकिस्तानी सेना ने दावा किया है कि कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर उसने एक भारतीय ड्रोन को मार गिराया है।

पाकिस्तानी सेना ने कहा है कि इस देश की वायु सीमा का उल्लंघन करने के कारण चेरीकोट के क्षेत्र में भारतीय ड्रोन को मार गिराया गया।

पाकिस्तानी सेना के अनुसार गत एक वर्ष के दौरान यह चौथा भारतीय ड्रोन है जिसे उसने मार गिराया है। वर्ष 2003 में दोनों देशों के मध्य संघर्ष विराम का समझौता होने के बावजूद युद्ध विराम का उल्लंघन जारी है।

कश्मीर का कुछ भाग भारत के नियंत्रण में है और कुछ भाग पाकिस्तान के नियंत्रण में है और दोनों देश पूरे कश्मीर पर स्वामित्व का दावा करते हैं।

कश्मीर के मामले में भारत और पाकिस्तान के मध्य विवाद ऐसी स्थिति में जारी है जब सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के अनुसार कश्मीर में जनमत संग्रह कराने का प्रावधान है।

पाकिस्तानी सेना ने जो यह दावा किया है कि गत एक वर्ष के दौरान उसने चार भारतीय ड्रोन मारे गिराये हैं उसका यह दावा कुछ पहलुओं से समीक्षा योग्य है।

पाकिस्तानी सेना के दावे के अनुसार इससे पहले वह तीन भारतीय ड्रोन को गिरा चुकी है और भारतीय अधिकारियों ने उसके इस दावे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दिखाई है इस बात के दृष्टिगत प्रतीत यह हो रहा है कि भारतीय अधिकारियों ने ड्रोन विमानों द्वारा पाकिस्तानी वायु सीमा के उल्लंघन को स्वीकार कर लिया है।

भारत पाकिस्तान पर आतंकवाद के समर्थन का आरोप लगाता है जिसका पाकिस्तानी कड़ाई से खंडन करता है।

इसी प्रकार भारत पाकिस्तान पर छद्म युद्ध आरंभ करने का आरोप लगाता है और उसने बारमबार घोषणा की है कि आतंकवादी गुट पाकिस्तान से भारत नियंत्रित कश्मीर में घुसपैठ करते हैं।

पिछले दो वर्षों के दौरान कश्मीर में भारतीय सेना के शिविर पर जो हमला हुआ था वह भारत और पाकिस्तान के संबंधों के और तनाव का कारण बना।

बहरहाल भारत के सैनिक मामलों के विशेषज्ञ प्रकाश मलिक का कहना है कि कश्मीर समस्या के समाधान के लिए वार्ता आरंभ होनी चाहिये और सैनिक मार्गों से कश्मीर समस्या का समाधान नहीं किया जा सकता। MM

 

Mar ०८, २०१८ १९:५८ Asia/Kolkata
कमेंट्स