• इस्राईल भाग्यशाली है कि ईरान, रूस और सीरिया ने उसे अभी तक तबाह नहीं किया

पूर्व अमेरिकी सैन्य अधिकारी का कहना है कि ज़ायोनी शासन बहुत भाग्यशाली है कि ईरान, रूस और सीरिया ने अभी तक इस्राईल के सभी ग़ैर क़ानूनी कृत्यों के जवाब में केवल कड़ी प्रतिक्रिया ही दी है उसे नष्ट नहीं किया है।

समाचार एजेंसी तसनीम को दिए एक साक्षात्कार में पूर्व अमेरिकी सैन्य अधिकारी स्कॉट बेनेट ने कहा कि इतने अत्याचारों और ग़ैर क़ानूनी कार्य करने के बाद कोई भी सरकार अब तक बाक़ी नहीं रहती। उन्होंने कहा कि मैं इस्राईल को भाग्यशाली समझता हूं कि जो पूरे क्षेत्र में पैदा हुए संकट का मुख्य कारण है और एक अत्याचारी शासन है जिसके हाथ बच्चों, महिलाओं और आम नागरिकों के ख़ून से सने हुए हैं और आजतक बचा हुआ है।

स्कॉट बेनेट अमेरिकी सरकार के मौजूदा आलोचकों में से एक है, जबकि उन्होंने "धोखाधड़ी" नामक एक पुस्तक भी लिखी है। इस पुस्तक में, उन्होंने अमेरिकी राजनेताओं के वित्तीय घोटालों के बारे में उल्लेख किया। इस पुस्तक के बाज़ार में आते ही अमेरिका सहित पूरी दुनिया में हलचल मच गई थी।

पहली बार ईरान की यात्रा करने वाले स्कॉट बेनेट, पवित्र शहर मशहाद में आयोजित एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लेने पहुंचे थे। पूर्व अमेरिकी सैन्य अधिकारी का कहना था कि अमेरिकी सेना को दमिश्क़ सरकार ने सीरिया आने का न्योता नहीं दिया था और बिना क़ानूनी सरकार की अनुमति लिए किसी भी देश में अपनी सेना भेजना, यह युद्ध अपराध है जो अमेरिका ने सीरिया में किया है।

स्कॉट बेनेट ने कहा कि अमेरिकी जनता व्हाईट हाउस में लिए जाने वाले फ़ैसलों से पूरी तरह अवगत नहीं है और अधिकतर अमेरिकी जनता यह समझ रही है कि देश की सेना आतंकवाद के ख़िलाफ़ जारी युद्ध में भाग लेने के लिए सीरिया, इराक़ और मध्यपूर्व के दूसरे देशों में मौजूद है। उन्होंने कहा कि  जबकि सच्चाई यह है कि सऊदी अरब और इस्राईल की मदद से इन देशों में आतंक फैला रहे तकफ़ीरी वहाबी आतंकवादियों की अमेरिकी सेना भरपूर मदद कर रही है।

पूर्व अमेरिकी सैन्य अधिकारी ने बल देकर कहा कि रूस और ईरान ने सीरिया को बचाया है और आशा है कि भविष्य में भी यह देश, सीरिया के विकास में अपनी भूमिका को निभाएंगे। स्कॉट बेनेट ने कहा कि हम अब यह नहीं सहन कर सकते हैं कि अमेरिका किसी अन्य देश पर हमला करे और उस देश में आंतरिक उथल-पुथल मचाए और बेगुनाह लोगों का ख़ून बहाए केवल इसलिए कि वह उस देश को लूट सके। (RZ)

 

टैग्स

मई २६, २०१८ २०:४१ Asia/Kolkata
कमेंट्स