रिपोर्टर बिदाउट बार्डर के महासचिव ने कहा है कि हमारा मूल लक्ष्य जमाल ख़ाशुक़जी के बारे में पता लगाना है।

संयुक्त राष्ट्रसंघ में लापता होने वाले लोगों का पता लगाने के लिए बने खोजी दल ने घोषणा की है कि उसने सऊदी अधिकारियों से विचार- विमर्श और पूछताछ आरंभ कर दी है और उसने सऊदी अरब में अपनी गतिविधियों की एक कापी तुर्क अधिकारियों को भेज दी है।

कतर के अलजज़ीरा टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार रिपोटर्ज़ बिदाउट बार्डर ने घोषणा की है कि संयुक्त राष्ट्रसंघ में लापता लोगों का पता लगाने के लिए बने खोजी दल ने सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी के मामले में जांच- पड़ताल को स्वीकार कर लिया है।

सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी दो अक्तूबर को इस्तांबोल में सऊदी अरब के काउंसलेट में दाखिल हुए थे पर वह वहां से वापस नहीं आये और वहां से वह लापता हो गये। रिपोर्टर बिदाउट बार्डर के महासचिव ने कहा है कि हमारा मूल लक्ष्य जमाल ख़ाशुक़जी के बारे में पता लगाना है।

स्पष्ट है कि लापता सऊदी पत्रकार के अंजाम की वास्विकताओं को जहां छिपाने का प्रयास किया जा रहा है वहीं उसके लापता होने के कोरणों और उससे संबंधित वास्तविकताओं का पता लगाने के लिए प्रयास जारी हैं।

इस मामले में राष्ट्रसंघ के आ जाने से सऊदी अधिकारी बहुत चिंतित हो गये हैं और उन्हें चाहिये कि वे अंतरराष्ट्रीय कानूनों के परिप्रेक्ष्य में लापता लोगों का पता लगाने के लिए बने खोजी दल के प्रश्नों का उत्तर दें। विश्व समुदाय इस संबंध में वास्तविकताओं को जानने का इच्छुक है।

आले सऊद सरकार के रहस्यों का पर्दा फाश करने वाले सऊदी ब्लागर मुजतहिद ने बल देकर कहा है कि सऊदी पत्रकार जमाल खाशुकजी की हत्या के पीछे मोहम्मद बिन सलमान का हाथ है और यह बात इतनी स्पष्ट है कि खाशुकजी की हत्या की वास्तविकताओं को छिपाने के लिए जो भी प्रयास किये जा रहे हैं वे परिणामहीन रहेंगे।

इसी प्रकार सऊदी ब्लागर मुजतहिद ने अपने पेज अकाउंट पर लिखा है कि खाशुकजी की हत्या में मोहम्मद बिन सलमान की भूमिका पर पर्दा डालने के लिए जितना अधिक प्रयास किया जायेगा इस हत्या में उनकी भूमिका उतनी ही अधिक स्पष्ट होगी।

बहरहाल सऊदी अरब को इस समय दूसरे समय की अपेक्षा अमेरिकी समर्थन की अधिक आवश्यकता है।

अमेरिकी संचार माध्यमों ने सूचना दी है कि सऊदी अरब ने अमेरिकी समर्थन प्राप्त करने के लिए 10 करोड़ डालर अमेरिका को दे दिया है। न्यूयार्क टाइम्स की उस रिपोर्ट को इसी परिप्रेक्ष्य में देखा जा सकता है कि जिसमें उसने कहा है कि अमेरिकी विदेशमंत्री माइक पोम्पियो की सऊदी यात्रा के दौरान रियाज़ ने अमेरिका को 10 करोड़ डालर दिया है ताकि इस मामले को किसी तरह से जल्द से जल्द दबा व खत्म कर दिया जाये। MM

 

Oct १८, २०१८ २०:३८ Asia/Kolkata
कमेंट्स