Dec १३, २०१८ १६:१२ Asia/Kolkata
  • वाइट हाउस पर छा गया हिस्टीरिया, काराकास क्यों पहुंचे रूस के दो बमवर्षक विमान?

रूस और अमरीका के बीच इन दिनों जो शीत युद्ध चल रहा है उसमें एक नई कड़ी जुड़ गई है। नई कड़ी यह है कि रूस ने टू-160 प्रकार के स्ट्रैटेजिक बम वर्षक विमान वेनेज़ोएला की राजधानी काराकास भेज दिए हैं। यह बम वर्षक विमान परमाणु वारहेड ले जाने में सक्षम कम दूरी के मिसाइलों से युक्त हैं।

यह अमरीका के लिए कड़ा संदेश है कि वह वेनेज़ोएला के खिलाफ़ कोई सैनिक कार्यवाही करने के बारे में हरगिज़ न सोचे।

रूसी बमवर्षक विमानों के वेनेज़ोएला पहुंचने से अमरीकी गलियारों में हिस्टीरिया वाली स्थिति पैदा हो गई है क्योंकि वाइट हाउस को इसकी अपेक्षा नहीं थी। वाइट हाउस लैटिन अमेरिका को अपने प्रभाव वाला इलाक़ा समझता है और वह नहीं चाहता कि रूस या कोई भी एसी शक्ति इस इलाक़े के क़रीब जाए जो अमरीका के लिए स्ट्रैटेजिक ख़तरे पैदा करने में सक्षम हो।

वेनेज़ोएला के राष्ट्रपति निकोलस मादोरो जिनकी सरकार गिराने या जिनकी हत्या करने की कोशिशों में अमरीका नाकाम रहा है, पिछले सप्ताह मास्को गए थे और रूसी राष्ट्रपति व्लादमीर पुतीन से उनकी मुलाक़ात हुई थी जिसमें उन्होंने रूस से मदद मांगी और रूस ने तत्काल यह मांग स्वकीर कर ली। रूस ने इस तरह अपने इस वामपंथी मित्र देश की सहायता के संकल्प की घोषणा कर दी है जो अमरीका की समस्त साज़िशों का मुक़ाबला करते हुए ख़ुद को सुरक्षित रखे हुए है।

अमरीका ने कोम्बिया, ब्राज़ील और अर्जेंटीना में वामपंथी सरकारों को गिरा दिया जिसके बाद दक्षिणपंथी दल इन देशों में सत्ता में पहुंचे और उन वामपंथी दलों को सत्ता से दूर कर दिया गया जो अमरीका के आर्थिक और राजनैतिक वर्चस्व के विरोधी हैं। अमरीका ने इसके लिए हर संभव आर्थिक व सामरिक हथकंडा प्रयोग किया। अमरीका के मशहूर लेखक बाब वुडवर्ड ने अपनी हालिया पुस्तक फियर...ट्रम्प इन द वाइट हाउस में लिखा कि डोनल्ड ट्रम्प ने देश के सैन्य अधिकारियों से कहा था कि वह वेनेज़ोएला के ख़िलाफ़ युद्ध शुरू करने और मादोरो को सत्ता से हटाने के लिए योजना तैयार करें लेकिन उस समय के उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मैकमस्टर ने इस मांग को ख़ारिज कर दिया था और चेतावनी दी थी कि इससे अमरीका को भारी नुक़सान उठाना पड़ सकता है।

अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पेयो ने जो ट्वीट किया है वह रूस के बमवर्षक विमानों के वेनेज़ोएला पहुंचने पर अमरीका के आक्रोश को ज़ाहिर करता है। पोम्पेयो ने लिखा कि यह मामला दो भ्रष्ट सरकारों द्वारा जनता की संपत्ति बर्बाद करने और आज़ादी को कुचलने का मामला है। उनका इशारा रूस और वेनेज़ोएला की ओर थ।

राष्ट्रपति पुतीन के प्रवक्ता डिमित्री पेसकोफ़ ने इस ट्वीट के बारे में कहा कि यह कूटनैतिक संस्कारों के विपरीत है और इसे हम अस्वीकार करते हैं। सबसे बुरी बात यह है कि यह ट्वीट उस देश के विदेश मंत्री ने किया है जिसके रक्षा बजट के आधे भाग से पूरे अफ़्रीक़ा महाद्वीप का पेट भरा जा सकता है। रूस के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया ज़ाख़ारोवा ने भी बयान दिया। उन्होंने कहा कि अमरीका अपने रक्षा बजट से अरबों डालर की रक़म अफ़ग़ानिस्तान, इराक़ और लीबिया के युद्ध पर ख़र्च करता है।

राष्ट्रपति ट्रम्प की नीतिया, उनके स्टैंड और उनके उत्तेजक प्रतिबंध दुनिया, मध्यपूर्व और लैटिन अमेरिका ही नहीं ख़ुद संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए भी विध्वंसकारी हैं। वेनेज़ोएला और वहां के निर्वाचित राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ अमरीका की राजनैतिक और आर्थिक उत्तेजक कार्यवाहियां ही कारण बनी है कि वेनेज़ोएला ने अपनी धरती पर रूस की पैठ के लिए रास्ता खोला है और रूसी बमवर्षक विमानों के वहां पहुंचने का रास्ता प्रशस्त किया है। यह भी हो सकता है कि सीरिया की तरह वेनेज़ोएला भी अपनी धरती पर रूस को सैनिक ठिकाना बनाने की अनुमति दे दे।

रूस के राष्ट्रपति बश्शार असद ने अमरीका और इस्राईल की साज़िश का मुकाबला करने के लिए रूस की मदद मांगी तो रूस के राष्ट्रपति ने मदद करने में कोई हिचकिचाहट नहीं दिखाई। रूस ने अपनी सेना और युद्धक विमान सीरिया भेज दिए तथा एस-400 मिसाइल तैनात कर दिए। इस तरह अमरीका की साज़िश नाकाम हो गई। अब इसी राह पर वेनेज़ोएला के राष्ट्रपति भी चले हैं और उनकी मांग भी रूस ने मान ली है। वेनेज़ोएला का महत्व इसलिए ज़्यादा है कि वह संयुक्त राज्य अमेरिका की धरती के क़रीब है जबकि सीरिया हज़ारों किलोमीटर दूर है।

दुनिया भर में कमज़ोर देशों पर पहले से जारी अमरीकी वर्चस्व समाप्त होता जा रहा है। अज्ञानता से भरी ट्रम्प की अकड़ तो हर सीमा और रेड लाइन को पार कर चुकी है अतः अब अमरीका पर अंकुश  लगाया जाने लगता है और एसा लगता है कि अंकुश लगाने का यह अभियान रूस के राष्ट्रपति पुतीन और उनकी चीनी समकक्ष शी जिनपिंग अंजाम दे रहे हैं।

अब्दुल बारी अतवान

अरब जगत के विख्यात लेखक व टीकाकार

टैग्स

कमेंट्स