Dec १५, २०१८ १६:१८ Asia/Kolkata
  • “मुझे काटना आता है” सऊदी पत्रकार के हत्यारे की बातचीत आई सामने

सऊदी अरब के वरिष्ठ पत्रकार की हत्या में आले सऊद शासन के उच्च अधिकारियों के शामिल होने की कड़ियां आपस में मिलना शुरू हो गईं हैं।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़ तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब अर्दोग़ान का कहना है कि उन्होंने सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी के एक कथित हत्यारे की ऑडियो रिकॉर्डिंग सुनी है जिसमें वह कहता हुआ सुनाई दे रहा है कि “मुझे काटना आता है।” तुर्की राष्ट्रपति ने कहा कि मैंने यह सभी जानकारियां अमेरिकी और यूरोपीय अधिकारियों के साथ साझा कर दीं हैं।

वरिष्ठ सऊदी पत्रकार की निर्मम हत्या के लिए सऊदी अरब की कड़ी आलोचना करते हुए अर्दोग़ान ने कहा कि अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस और कनाडा सबको जमाल ख़ाशुकजी के हत्यारे की आवाज़ सुना दी गई है। उन्होंने कहा कि ख़ाशुकजी का हत्यारा साफ़-साफ़ यह कहता सुनाई दे रहा है कि “मुझे काटना आता है।” तुर्क राष्ट्रपति ने बताया कि ऑडियो रिकॉर्डिंग में जिस व्यक्ति की आवाज़ सुनाई दे रही है वह एक सैनिक है और इसका प्रमाण भी इसी ऑडियो रिकॉर्डिंग में मौजूद है।

इस बीच अमेरिकी न्यूज़ चैनल सीएनएन ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि ख़ाशुक़जी ने अपने अंतिम समय में हत्यारों से कई बार कहा कि उन्हें सांस लेने में परेशानी हो रही है। जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या में सऊदी युवराज के लिप्त होने और सामने आने वाले सबूतों एवं गवाहों के बावजूद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने कहा है कि वह बिन सलमान के समर्थन में खड़े रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि जमाल ख़ाशुक़जी, सऊदी अरब की सरकार विशेष कर इस देश के युवराज मोहम्मद बिन सलमान की नीतियों के घोर आलोचक थे और इसी लिए सऊदी सरकार उन्हें रास्ते से हटाने की कोशिश में थी। दो अक्तूबर को इस्तांबूल स्थित सऊदी कोन्सलेट में जाने के बाद ख़ाशुक़जी लापता हो गए थे और 18 दिन के मौन और हत्या के इन्कार के बाद अंततः सऊदी अरब की सरकार ने विश्व समुदाय के दबाव के चलते यह बात मान ली थी कि ख़ाशुक़जी की हत्या कोनस्लेट के अंदर हुई है लेकिन उसने इस बात पर बल दिया था कि इस हत्या में सरकार का कोई हाथ नहीं है बल्कि कुछ तत्वों ने अपनी मर्ज़ी से यह हत्या की है। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स