Dec १६, २०१८ १७:०८ Asia/Kolkata
  • लाख कोशिश की लेकिन फिर भी बच न पाए, आख़िरकार क़ब्रिस्तान पहुंच गए डोनल्ड ट्रम्प,

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प आख़िरकार क़ब्रिस्तान पहुंचे और इस पर मीडिया की ख़ास नज़र थी। कारण यह था कि ट्रम्प कुछ क़ब्रिस्तान जाने से बचने की कोशिश करते रहे हैं जिसकी वजह से उनकी जमकर आलोचना भी हुई।

आलोचना झेलने के बाद ट्रम्प अचानक शनिवार को वाशिंग्टन के क़रीब स्थित ओरलिंग्टन क़ब्रिस्तान पहुंच गए। गत 12 नवंबर को वेटरन्स डे मनाया गया। यह दिन वैसे तो 11 नवम्बर को मनाया जाता है लेकिन इस साल 11 नवम्बर को रविवार का दिन था अतः इस दिन के बजाए 12 नवम्बर को वेटरन्स डे मनाया गया। ओरलिंग्टन क़ब्रिस्तान वाइट हाउस से तीन किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और हर साल 11 नवम्बर को अमरीकी राष्ट्रपति इस क़ब्रिस्तान में ज़रूर जाते हैं।

इस दिन ट्रम्प क़ब्रिस्तान नहीं गए जिस पर उनकी कड़ी आलोचना की गई और ट्रम्प ने फ़ाक्स न्यूज़ से बातचीत में कहा कि मुझे जाना चाहिए था। मैं बहुत व्यस्त था और देश हित के लिए फ़ोन वार्ताएं कर रहा था और उस दिन बहुत बारिश भी हो रही थी।

ट्रम्प फ़्रांस में थे और उस समय वह पेरिस से लगभग सौ किलोमीटर दूर स्थित अमरीकी सैनिकों के क़ब्रिस्तान इसलिए नहीं गए थे कि उनके अनुसार बारिश बहुत तेज़ थी। ट्रम्प का कहना था कि उनकी सुरक्षा टीम ने उनसे कहा कि इस मौसम में हेलीकाप्टर से यात्रा करना उचित नहीं होगा।

बहरहाल ट्रम्प के इन तर्कों से कोई भी संतुष्ट नहीं हुआ और उनकी आलोचना की गई कि वह संस्कारों और सिद्धांतों पर कभी भी ध्यान नहीं देते। ट्रम्प की आलोचना इसलिए भी की जा रही है कि वह ओरलिंग्टन क़ब्रिस्तान में जिस समय गए मौसम लगभग वही था जो पेरिस में उस दिन था जिस दिन ट्रम्प ने अमरीकी सैनिकों के क़ब्रिस्तान जाने से ख़ुद को बचा लिया था।

ट्रम्प के लिए उनके सहयोगी भी कहते हैं कि वह मूडी इंसान हैं और अपने इसी मूड की वजह से वह बहुत बड़ी बड़ी गलतियां करते रहते हैं। ट्रम्प केवल प्रोटोकोल और परम्पराओं के बारे में ही नहीं बल्कि विदेश नीति के बारे में भी अपने मूड के अनुसार काम करते हैं और इस कारण अमरीका की विदेश नीति को भारी नुक़सान पहुंच रहा है। बाब वुडवर्ड ने अपनी पुस्तक फ़ियर ट्रम्प इन द वाइट हाउस में लिखा है कि ट्रम्प ने वेनेज़ोएला के राष्ट्रपति मादोरो की हत्या का सुझाव दिया था जिसे उस समय के अमरीकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मैकमस्टर ने मूर्खतापूर्ण सुझाव समझकर ख़ारिज कर दिया था। ट्रम्प की इच्छा थी कि सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद की हत्या करवा दें मगर उनके सलाहकारों और युद्ध मंत्री जेम्ज़ मैटिस को इस योजना के भयानक परिणामों का अच्छी तरह अंदाज़ा था अतः उन्होंने ट्रम्प के इस विचार को स्वीकार करने से इंकार कर दिया।

ट्रम्प वाइट हाउस में बार बार इसी प्रकार की ग़लतियां करते हैं। कुद ग़लतियां तो एसी हैं जिनसे ट्रम्प के लिए व्यक्तिगत रूप से समस्याएं पैदा होती हैं जैसे कि उन्होंने अपने वकील के माध्यम से उन दो महिलाओं को रिश्वत दिलवाकर चुप करवाया जो ट्रम्प से यौन संबंध की बात कह रही थीं। इस मामले में ट्रम्प के पूर्व वकील जेल जा चुके हैं और ट्रम्प के लिए भी समस्या उत्पन्न होने की बात कही जा रही है। मगर ट्रम्प की कुछ ग़लतियां एसी हैं जिनका नुकसान केवल ट्रम्प तक सीमित नहीं है बल्कि अमरीका के राष्ट्रीय हितों को प्रभावित कर रहा है।  

कमेंट्स