Apr १९, २०१९ १२:०५ Asia/Kolkata
  • पश्चिमी मीडिया पर तुर्क राष्ट्रपति का कड़ा प्रहार, जो मर्ज़ी में आए लिखो

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान ने ब्रिटिश समाचार एजेन्सी फ़ाइनेन्शल टाइम की रिपोर्ट में सेन्ट्रल बैंक के विदेशी मुद्रा भंडार की व्यवस्था पर सवाल उठाने पर पश्चिमी मीडिया की कड़े शब्दों में आलोचना की है।

समाचार एजेन्सी एएफ़पी के अनुसार पिछले वर्ष तुर्की की करेंसी लीरे की वैल्यू में निरंतर गिरावट के परिणाम में विदेशी पूंजीनिवेशकों का विश्वास सरकारी नीतियों पर कम हुआ किन्तु अब तुर्की की वर्तमान आर्थिक स्थिति एक दशक के बाद पहली बार आर्थिक गिरावट का शिकार है।

पिछले सप्ताह ब्रिटिश समाचार एजेन्सी फ़ाइनेन्शल टाइम ने समाचार प्रकाशित किया था कि तुर्की के सेन्ट्रल बैंक ने कम अवधि के लिए विदेशी भंडार को बेहतर बनाने के लिए कार्यवाहियां की जो दिखावटी थीं।

पिछले महीने विदेशी भंडार से संबंधित पूंजीनिवेशकों की अविश्वसनीय स्थिति से लीरे की वैल्यू एक ही दिन में 6 प्रतिशत कम रिकार्ड की गयी थी।

फ़ाइनेन्शल टाइम की रिपोर्ट पर तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान ने बिज़नेस फ़ोरम को संबोधित करते हुए कहा कि दुर्भाग्य से कुछ पश्चिमी शक्तियां मीडिया को हथकंडे के रूप में प्रयोग करके कह रही है कि हमारी अर्थव्यस्था तबाह हो चुकी है।

उन्होंने कहा कि पश्चिमी मीडिया लिखे जो वह चाहती है, सुर्ख़िया बनाएं जैसा वह चाहें, फ़ाइनेन्शल टाइम भी लिखे किन्तु हमारे देश में आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी है।

ज्ञात रहे कि 3 अप्रैल को तुर्की की ओर से रूस से रक्षा मीज़ाइल प्रणाली ख़रीदने के फ़ैसले पर डट जाने के बाद अमरीका ने पहला सख़्त क़दम उठाते हुए तुर्की को रडार में न दिखाई देने वाले एफ़-35 युद्धक विमानों से जुड़े कलपुर्ज़े देने से रोक दिया था। (AK)

कमेंट्स