30 जून वर्ष 1947 को भारत के विभाजन की घोषणा के बाद बंगाल और पंजाब के विभाजन के लिए बाउंडरी कमीशन के सदस्यों की घोषणा की गई।

1294 स्विट्जरलैंड के बर्ने प्रांत से यहूदियों को बाहर निकाला गया।

1870 अदा केपले यूएस में लॉ कॉलेज से ग्रेजुएट करने वाली पहली महिला बनीं।

1876 सर्बिया ने तुर्की के ख़िलाफ़ युद्ध की घोषणा की।

1894 लंदन में टॉवर ब्रिज को खोला गया।

1914 दक्षिणी अफ़्रीक़ा में भारतीयों के अधिकारों के लिये आंदोलन करने के दौरान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को पहली बार गिरफ़्तार किया गया।

1933 फांसीवाद के खिलाफ एंटवर्प में 50 हज़ार लोगों ने प्रदर्शन किए।

1937 दुनिया का पहला इमरजैंसी नंबर 999 लंदन में जारी किया गया था।

1938 बच्चों का पसंदीदा कार्टून सुपरमैन पहली बार कॉमिक्स (डीसी कॉमिक्स एक्शन सीरीज भाग-1) में नज़र आया।

1948 ब्रिटिश सेना की अंतिम टुकड़ी ज़ायोनी शासन को छोड़ स्वदेश रवाना हुयी।

1960 अमेरिका ने क्यूबा से चीनी का आयात बंद करने का निर्णय लिया।

1962 रोवांडा और बुरूंडी देश स्वतंत्र हुये।

1966 अमेरिका का पहला महिला संगठन नेशनल ऑर्गनाइज़ेशन फॉर वुमेन का गठन किया गया।

1985 लेबनान में बंधक बनाए गए 39 अमेरिकी नागरिक गिरफ़्तार किए गए।

1990 पूर्वी और पश्चिमी जर्मनी ने अपनी अर्थव्यवस्था का विलय किया।

1994 फ्रांस के तोलूज़ में ए-330 एयरबस विमान के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से सात लोग मारे गये।

1999 आस्ट्रेलियाई उप-प्रधानमंत्री तथा नेशनल पार्टी के नेता टीम फ़िशर ने त्यागपत्र दे दिया।

2000 अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर को क़ानूनी मान्यता दी।

2002 ब्राज़ील ने जर्मनी को 2-0 से हराकर फ़ुटबाल के विश्व कप पर कब्ज़ा किया।

2005 ब्राज़ील ने कन्फ़ेड्रेशन फ़ुटबाल कप जीता।

2006 फ़ुटबाल विश्वकप में जर्मनी ने अर्जेन्टीना को हराया।

2007 संयुक्त राष्ट्र महासभा ने आम सहमति से शांति रक्षण विभाग के बंटवारे का निर्णय किया।

2008 रविकांत, उमा शंकर चौधरी व विमल चन्द्र पाण्डेय को संयुक्त रूप से भारतीय ज्ञानपीठ का नवलेखन पुरस्कार प्रदान किया गया।

2008 भारतीय पत्रकार अनीसुद्दीन अज़ीज को इंटरनेशनल एसोसियेशन आफ़ बुक कीपर्स (आईएबी) के न्यू बिज़नेस आफ़ द ईयर अवार्ड से सम्मानित किया गया।

2008 पाकिस्तान सरकार ने क़बाइली ख़ैबर दर्रे क्षेत्र में दहशत फ़ैला रहे तीन आतंकी गुटों पर प्रतिबन्ध लगाया।

2008 राबर्ट मुगाबे ने जिम्बाव्वे के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।

 

30 जून वर्ष 1947 को भारत के विभाजन की घोषणा के बाद बंगाल और पंजाब के विभाजन के लिए बाउंडरी कमीशन के सदस्यों की घोषणा की गई। 3 जून वर्ष 1947 को जब भारत के विभाजन की योजना की घोषणा हुई तो एक धारा यह रखी गई कि पंजाब और बंगाल के विभाजन की स्थिति में एक बाउंडरी आयोग बनाया जाए जो मुस्लिम और ग़ैर मुस्लिम क्षेत्रों के आधार पर भारत और पाकिस्तान के बीच पंजाब और बंगाल की नई सीमा का निर्धारण करेगा। आयोग के गठन के लिए लार्ड माउंट बेटन ने पंडित नेहरू की इच्छा पर इस प्रस्ताव का समर्थन किया कि पंजाब और बंगाल दोनों के बंटवारे के लिए चार सदस्यीय दो आयोग बनाए जाएं जिनमें दो सदस्य कांग्रेस और दो ​​सदस्यों को मुस्लिम लीग नामित करे और उनका अध्यक्ष एक निष्पक्ष व्यक्ति हो किंतु माउंट बेटन ने सर सेरिल रेड क्लिफ़ को इन दोनों आयोगों का संयुक्त अध्यक्ष नामित किया। अनेक मुस्लिम बहुल क्षेत्र और बंगाल में कोलकत्ता और मुर्शिदाबाद का क्षेत्र भारत को दे दिया गया और यह घोषणा पाकिस्तान की स्थापना के तीन दिन बाद की गई।

 

30 जून सन 1920 ईसवी को इराक़ में आयतुल्लाह मिर्ज़ा मोहम्मद तक़ी शीराज़ी के नेतृत्व में जनता ने ब्रिटिश अतिग्रहणकारियों के विरूद्ध संघर्ष आरंभ किया। प्रथम विश्व युद्ध के बाद उसमानी शासन के अधीन क्षेत्रों के आपस में बॉंटने के संबंध में संयुक्त देशों के बीच होने वाले समझौते के आधार पर इराक़ जार्डन और फ़िलिस्तीन, ब्रिटेन के हाथ लगे और फिर उसके बाद से इन क्षेत्रों में ब्रिटिश साम्राज्य आरंभ हुआ। ब्रिटेन ने इन क्षेत्रों के समृद्ध प्राकृतिक स्रोतों को औपचारिक रूप से लूटना आरंभ कर दिया। उक्त समझौता होने के बाद पूरे इराक़ में क्रान्ति की लहर दौड़ गयी । आयतुल्लाह मिर्ज़ा मोहम्मद तक़ी शीराज़ी ने जेहाद का फ़तवा जारी किया और जनता ने देश के विभिन्न भागों में ब्रिटिश साम्राज्य का मुक़ाबला आरंभ कर दिया। किंतु चूंकि ब्रिटेन को समस्त साम्राज्यवादी देशों की सहायता और समर्थन प्राप्त था अत: यह जनान्दोलन सफल न हो सका । ब्रिटेन ने मक्का नगर के शासक हुसैन के बेटे फ़ैसल को इराक़ का नरेश बना दिया।

30 जून सन 1934 ईसवी को जर्मनी के तानाशाह एडोल्फ़ हिटलर ने अपनी नेशनल सोशियालिस्ट पार्टी में विरोधियों का सफ़ाया कर दिया। हिटलर ने जिसने इससे कुछही समय पहले कम्युनिस्टों का सर्वनाश कर दिया था आज के दिन पार्टी में अपने प्रतिस्पर्धियों का सफाया कर दिया। 1934 में हिटलर बड़े आराम से जर्मनी का शासक बना तथा उसने अपने वर्चस्ववादी लक्ष्यों को आगे बढ़ाना आरंभ किया।

 

30 जून सन 1960 ईसवी को ज़ईर देश को स्वतंत्रता मिली और काज़ाववेबो इस देश के राष्ट्रपति तथा पैट्रिस लोमोम्बा प्रधान मंत्री चुने गये। स्वतंत्रता से पूर्व ज़ईर, बेल्जियम का उपनिवेश था। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद के वर्षों में इस देश में पैट्रिस लोमोम्बा के नेतृत्व में स्वतंत्रता प्रेमी आंदोलन अपनी चरम सीमा को पहुंचा जिसके परिणाम स्वरूप ज़ईर को स्वतंत्रा मिली।

स्वतंत्रता के बाद भी इस देश में विद्रोह और हिंसा जारी रही जिसके पीछे  बोलिजयम का हाथ था। दूसरी ओर लोमोम्बा और साम्राज्य के पिटठू मूसा चूम्बा के बीच टकराव के कारण भी देश में संकट गहराता चला गया। लोमोम्बा को शत्रुओं ने मार दिया जिसके बाद ज़ईर देश की दूसरे देशों पर निर्भरता बढ़ गयी।

 सन 1997 में इस देश का नाम कॉंगो रख दिया गया और अब यह देश इसी नाम से जाना जाता है।


 

30 जून सन 1989 ईसवी को सूडान में जनरल उमर हसन अहमद अलबशीर ने सादिक़ुल मेहदी की सरकार को जो आंतरिक संकटों से जूझ रही थी शांत विद्रोह करके गिरा दिया।

उमर अलबशीर ने विद्रोह के बाद हसन अत्तोराबी नामक नेता के साथ मिलकर सूडान नेशनल कॉंग्रेस पार्टी की स्थापना की और स्वंय पार्टी के अध्यक्ष और देश के राष्ट्रपति बन गये। सत्ता प्राप्त कर लेने के बाद अलबशीर ने अमरीका पर निर्भरता को छोड़कर स्वतंत्र नीति अपनाने का प्रयास किया। जिसके कारण वाशिंगटन ने खारतूम सरकार से अप्रसन्न होकर उसके विरूद्ध शत्रुतापूर्ण कार्रवाइयां आरंभ कर दीं।

 

***

16 शव्वाल सन 510 हिजरी क़मरी को अरब जगत के प्रसिद्ध इतिहासकार और धर्मगुरु इब्ने अरज़क़ फ़ारूक़ी का जन्म हुआ। इतिहास से विशेष रुचि के कारण उन्होंने इस विषय का व्यापक अध्ययन किया। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों की यात्राएं कीं जिनमें उन्हें इन क्षेत्रों की ऐतिहासिक एवं सामाजिक स्थिति और इसी प्रकार रीति-रिवाजों का पता चला। उन्होंने अपने अनुभवों को तारीख़ुल फ़ारुक़ी नामक अपनी पुस्तक में लिखा है। उनकी लिखी पुस्तकों में यही सुरक्षित रह गयी है।

 

टैग्स

Jun ३०, २०१८ ०१:०० Asia/Kolkata
कमेंट्स