28 अगस्त 1914 ईसवी को प्रथम विश्‍व युद्ध की शुरुआत हुई।

  • 28 अगस्त 1521 ईसवी को तुर्की के सुल्तान सुलेमान प्रथम के सैनिकों ने बेलग्रेड पर क़ब्ज़ा किया।
  • 28 अगस्त 1600 ईसवी को मुग़लों ने अहमदनगर पर क़ब्ज़ा किया।
  • 28 अगस्त 1845 ईसवी को प्रसिद्ध पत्रिका साइंटेफ़िक अमरीकन का पहला संस्करण छपा।
  • 28 अगस्त 1858 ईसवी को उंगलियों के निशान को पहचान बनाने वाले ब्रिटिश विलियम जेम्‍स हर्शेल का जन्‍म हुआ।
  • 28 अगस्त 1904 ईसवी को कलकत्ता से बैरकपुर तक प्रथम कार रैली का आयोजन हुआ।
  • 28 अगस्त 1914 ईसवी को प्रथम विश्‍व युद्ध की शुरुआत हुई।
  • 28 अगस्त 1916 ईसवी को प्रथम विश्‍वयुद्ध में इटली ने जर्मनी के ख़िलाफ युद्ध की घोषणा की।
  • 28 अगस्त 1956 ईसवी को इंग्‍लैड ने ऑस्‍ट्रेलिया को हटाकर एशेज़ पर क़ब्‍ज़ा जमाया।
  • 28 अगस्त 1972 ईसवी को साधारण बीमा कारोबार राष्ट्रीयकरण बिल पारित किया गया।
  • 28 अगस्त 1984 ईसवी को सोवियत संघ ने भूमिगत परमाणु परीक्षण किया।
  • 28 अगस्त 1986 ईसवी को भाग्‍यश्री साठे शतरंज में ग्रैंडमास्‍टर बनने वाली पहली महिला बनीं।
  • 28 अगस्त 1990 ईसवी को इराक़ ने कुवैत को अपना 19वाँ प्रान्त घोषित किया।
  • 28 अगस्त 1996 ईसवी को इंग्लैंड के प्रिंस चार्ल्स और उनकी पत्नी डायना ने औपचारिक रूस स तलाक़ लिया।
  • 28 अगस्त 1999 ईसवी को मेजर समीर कोतवाल आसाम में उग्रवादियों के एक गुट के साथ लडाई में शहीद हो गये।
  • 28 अगस्त 2000 ईसवी को ताइवान के राष्ट्रपति चुने शुई बियान द्वारा चीन के साथ एकीकरण के विकल्प को स्वीकार करने का संकेत, संयुक्त राष्ट्र में सहस्त्राब्दि विश्व धार्मिक शिखर सम्मेलन शुरू।
  • 28 अगस्त 2008 ईसवी को भारतीय रिज़र्व बैंक ने 1999 और 2000 के सभी नोटो को प्रचलन से हटाने का निर्णय किया।
  • 28 अगस्त 1914 ईसवी को प्रथम विश्‍व युद्ध की शुरुआत हुई।

पहला विश्व युद्ध 1914 से 1918 तक मुख्य तौर पर यूरोप में व्याप्त महायुद्ध को कहते हैं। यह महायुद्ध यूरोप, एशिया व अफ़्रीक़ा तीन महाद्वीपों और समुद्र, धरती और आकाश में लड़ा गया। इसमें भाग लेने वाले देशों की संख्या, इसका क्षेत्र तथा इससे हुई क्षति के अभूतपूर्व आंकड़ों के कारण ही इसे विश्व युद्ध कहते हैं।

पहला विश्व युद्ध लगभग 52 महीने तक चला और उस समय की पीढ़ी के लिए यह जीवन की दृष्टि बदल देने वाला अनुभव था। लगभग आधी दुनिया हिंसा की चपेट में चली गई और इस दौरान लगभग एक करोड़ लोगों की जान गई और इससे दोगुने घायल हो गए। इसके अलावा बीमारियों और कुपोषण जैसी घटनाओं से भी लाखों लोग मरे। 28 अगस्त सन 1914 ईसवी को प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी और ब्रिटेन के युद्धपोतों के मध्य भीषण लड़ाई हुई। इस युद्ध में जर्मनी के चार युद्धपोत नष्ट हुए और उसके एक हज़ार सैनिक मारे गये जबकि इस युद्ध में ब्रिटेन की ओर से मरने वाले सैनिकों की संख्या मात्र 33 थी। विश्व युद्ध ख़त्म होते-होते चार बड़े साम्राज्य रूस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी और उस्मानिया ढह गए। यूरोप की सीमाएँ फिर से निर्धारित हुईं।

***

28 अगस्त सन 1828 ईसवी को लियो टोल्सटोए नामक रुसी लेखक और साहित्यकार का जन्म हुआ। पहले तो वे क़फ़क़ाज़ की सेना मे भर्ती हो गये और उसी दौरान उन्होंने बचपन नामक अपनी पहली पुस्तक की रचना की। कुछ समय बाद वे सेना से निकल गये और अपना सारा समय अध्ययन में व्यतीत करने लगे। वर्ष 1910 ईसवी में टोलस्टाय का निधन हुआ।

 

28 अगस्त सन 1916 ईसवी को जर्मनी ने रोमानिया के विरुद्ध युद्ध की घोषणा की और इसी दिन इटली ने जर्मनी के विरुद्ध युद्ध की घोषणा की।

 

28 अगस्त सन 1922 ईसवी को विश्व में पहली बार रेडियो पर 10 मिनट के लिए विज्ञान का कार्यक्रम प्रसारित किया गया। यह प्रसारण न्यूयार्क से हुआ था।

 

28 अगस्त सन 1749 ईसवी को जोहान वुल्फगैंग पॉन गोएटे नामक जर्मनी के लेखक और कवि का जन्म हुआ। वे अपनी मात्रभूमि फ्रैंकफर्ट में संगीत, चित्रकारी और विभिन्न भाषाएं सीखने में सफल हुए। गोएटे जिन्हे जर्मन साहित्य के प्रचारकों में गिना जाता है किसी विशेष साहित्य तक सीमित नहीं थे। उनको फार्सी सहित विभिन्न साहित्यों में भी रुचि थी। इसी प्रकार उन्हें इस्लाम धर्म और क़ुरआन से भी लगाव था। उन्होंने एक स्थान पर लिखा है कि मैं कुछ गलत धारणओं के कारण क़ुरआन को पसंद नहीं करता था किंतु थोड़ा ही समय बीता कि इस पुस्तक ने मेरा ध्यान अपनी ओर खींचा और मैंने भी इस पुस्तक के ज्ञान से परिपूर्ण क़ानूनों और नियमों के सामने सिर झुका दिया। मुझे विश्वास है कि शीघ्र ही यह पुस्तक पूरे संसार को प्रभावित करेगी। 1832 ईसवी में गोएटे का निधन हुआ।

 

***

6 शहरीवर सन 1371 हिजरी शमसी को ईरान के प्रसिद्ध धर्मगुरु आयतुल्ला सैयद अब्दुल मजीद ईरवानी का निधन हुआ। उनका जन्म सन 1313 हिजरी शम्सी को तबरेज़ नगर में हुआ था। वे उच्च स्तरीय शिक्षा प्राप्ति के लिए तबरेज़ से कुम गये जहॉ उन्होंने इमाम ख़ुमैनी और आयतुल्ला बुरुजर्दी जैसे प्रतिष्ठित धर्मगुरुओं से शिक्षा ली। उन्होंने इस्लामी क्रान्ति के दौरान शाह के विरुद्ध व्यापक संघर्ष किया। शाह के सुरक्षा कर्मियों ने कई बार उन्हें पकड़ कर जेल में डाल दिया किंतु वे स्वतंत्रता संघर्ष से अलग नहीं हुए। इस्लामी क्रान्ति की सफलता के बाद भी आयतुल्ला सैयद अब्दुल मजीद ईरवानी, शिक्षा देने के अतिरिक्त सामाजिक क्षेत्रों में सक्रिय रहे।

 

***

16 ज़िलहिज्जा सन 471 हिजरी क़मरी को स्पेन के गणितज्ञ व खगोल शास्त्री अबू अब्दुल्ला मोहम्मद बिन जियानी का निधन हुआ। वे सन 379 हिजरी क़मरी को स्पेन के प्राचीन नगर क़ुरतुबा में पैदा हुए और आरंभिक शिक्षा वहीं प्राप्त की। फिर उन्होंने मिस्र की राजधानी क़ाहेरा की यात्रा की और वहॉ चार वर्ष तक शिक्षा प्राप्ति में लीन रहे। उन्होंने खगोल शास्त्र के विषय पर महत्वपूर्ण पुस्तकें लिखीं हैं।

 

16 ज़िलहिज्जा सन, 1292 हिजरी क़मरी को तुर्की के इस्ताम्बूल नगर में समाचार पत्र अख़तर का पहला संस्करण प्रकाशित हुआ। उस समय इसके संपादक आक्रा मोहम्मद ताहिर तबरेज़ी थे। यह एकमात्र ईरानी समाचार पत्र था जो ईरान के बाहर भी आधुकनिक रुप में प्रकाशित हुआ। इस समाचार पत्र में उस समय के कई लेखकों ने अपने लेख छपवाए। उस समय अखतर समाचार पत्र ईरान, क़फ़क़ाज़ इराक़ और भारत में बहुत मशहूर था।

Aug २७, २०१६ ०९:५१ Asia/Kolkata
कमेंट्स