30 अगस्त 1569 को मुग़ल बादशाह अकबर के सबसे बड़े पुत्र सुल्तान सलीम मिर्ज़ा उर्फ़ जहांगीर का जन्म हुआ।

  • 30 अगस्त 1659 को दारा शिकोह को औरंगज़ेब ने मौत की सज़ा दी।
  • 30 अगस्त 1806 को न्यूयॉर्क शहर का दूसरा दैनिक समाचार पत्र “डेली एडवर्टाइज़र” अंतिम बार प्रकाशित किया गया।
  • 30 अगस्त 1947 को भारतीय संविधान का प्रारूप तैयार करने के लिए डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के नेतृत्व में एक प्रारूप समिति का गठन किया गया।
  • 30 अगस्त 1981, ईरान के तत्कालीन राष्ट्रपति मोहम्मद अली रजाई और प्रधान मंत्री मोहम्मद जवाद बाहुनर को आतंकवादी गुट एमकेओ ने एक बम धमाके में शहीद कर दिया।
  • 30 अगस्त 1984 को अंतरिक्ष यान “डिस्कवरी” ने पहली बार उड़ान भरी।
  • 30 अगस्त 1991 को आज़रबाइजान ने सोवियत संघ से अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की।
  • 2007, जर्मनी के दो वैज्ञानिक गुंटर निमित्ज़ और आल्फ़ोंस स्टालहोफ़ेन ने अल्बर्ट आइंसटीन के सापेक्षता के सिद्धान्त को ग़लत ठहराने का दावा किया।
  • 2007, बांग्लादेश सरकार ने नोबेल पुरस्कार विजेता मुहम्मद युनुस के सम्मान में डाक टिकट जारी किया।

 

***

30 अगस्त 1999 को पूर्वी तिमोर के निवासियों ने इंडोनेशिया से आजादी के लिए भारी मतदान किया। पूर्वी तिमोर, आधिकारिक रूप से लोकतांत्रिक गणराज्य है तिमोर दक्षिण पूर्व एशिया में स्थित एक देश है। ऑस्ट्रेलिया से 640 किलोमीटर उत्तर पश्चिमी में स्थित इस देश का कुल क्षेत्रफल 15,410 वर्ग किलोमीटर है। वर्ष 1511 ईसवी में पूर्वी तिमोर सहित इन्डोनेशिया के अन्य द्वीप पर पुर्तगाल ने क़ब्ज़ा कर लिया और 19वीं शताब्दी में इन्डोनेशिया पर हालैंड के अतिग्रहण के बाद केवल पूर्वी तिमोर पुर्तगाल के नियंत्रण में बाक़ी रहा। वर्ष 1945 में इन्डोनेशिया स्वतंत्र हुआ और वर्ष 1976 तक पूर्वी तिमोर पुर्तगाल के नियंत्रण में रहा यहां तक कि इंडोनेशिया ने इस पर हमला कर कब्जा कर लिया और इसे अपना 27वां प्रांत घोषित कर दिया। वर्ष 1998 में जनरल सोहार्तो के शासन के पतन और इन्डोनेशिया में राजनैतिक संकट उत्पन्न होने के बाद पूर्वी तिमोर में स्वतंत्रता प्रेमी आंदोलन तेज़ हो गये और 1999 में संयुक्त राष्ट्र प्रायोजित आत्म-निर्णय क़ानून के बाद इंडोनेशिया ने क्षेत्र पर से अपना नियंत्रण हटा लिया और यह देश स्वतंत्र हो गया। पूर्वी तिमोर एशिया के दो रोमन कैथोलिक बहुल देशों में से एक है।  दूसरा देश फ़िलीपीन्स है।

***

8 शहरीवर सन 1360 हिजरी शम्सी को ईरान के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री मोहम्मद अली रजाई तथा प्रधान मंत्री मोहम्मद जवाद बाहुनर की आतंकवादी गुट एम के ओ ने तेहरान में प्रधानमंत्री कार्यालय में बम विस्फोट करके हत्या कर दी। शहीद रजाई ने अपनी सामाजिक गतिविधियां एक शिक्षक के रुप में आरंभ कीं। इसी के साथ ही उन्होंने शाह की अत्याचारी सरकार के विरुद्ध संघर्ष भी किया। इस्लामी क्रान्ति की सफलता तक वे कई बार जेल भेजे गये। इस्लामी क्रान्ति की सफलता के पश्चात उन्होंने शिक्षा मंत्री संसद के प्रतिनिधि, प्रधान मंत्री और राष्ट्रपति पदों पर आसीन होकर जनता की सेवा की । अपने राष्ट्रपति काल में उन्होंने इस्लामी क्रान्ति के संघर्षकर्ता और अनुभवी व्यक्ति मोहम्मद जवाद बाहुनर को प्रधानमंत्री बनाया। चूँकि यह दोनों ही इस्लामी शासन व्यवस्था के प्रति निष्ठावान जनसेवक थे। इस लिए क्रान्ति के शत्रुओं की नज़र में हमेशा खटकते थे। इसी कारण क्रान्ति के शत्रु आतंकवादी गुट एम के ओ ने इन दोनों को बम विस्फोट करके शहीद कर दिया। इस घटना के बाद इमाम ख़ुमैनी ने कहा था कि श्री रजाई और श्री बाहुनर की महानता यह है कि वे सदा जनता के साथ रहे।

18 जिलहिज्जा सन 10 हिजरी क़मरी को पैगम्बरे इस्लाम स ने अपने जीवन के अंतिम हज से वापसी के समय ईश्वर के आदेशानुसार हज़रत अली को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया। पैग़म्बरे इस्लाम ने यह घोषणा मक्के से मदीने के मार्ग में स्थित ग़दीरे ख़ुम नामक स्थान पर की थी जिसके बाद ईश्वर ने करआन की आयत उतारी जिसमें ईश्वर ने कहा है आज अनेक ईश्वरवादी ईश्वरीय धर्म की ओर से निराश हो गये तो उनसे न डरो बल्कि केवल मुझसे डरो। आज में मैने तुम्हारे धर्म को परिपूर्ण कर दिया। और तुमपर अपनी सारी विभूतियां पूरी कर दीं। और तुम्हारे लिए इस्लाम धर्म को पसंद किया। इसी कारण आज के दिन को मुसलमान ईद के रुप के रुप में मनाते हैं।

18 जिलहिज्जा सन 1214 हिजरी क़मरी को विश्व विख्यात मुसलमान धर्मगुरु शैख़ मुर्तज़ा अन्सारी का ईरान के दक्षिण पश्चिमी नगर देज़फोल में जन्म हुआ। उन्होंने बहुत कम समय में इस्लामी विषयों का ज्ञान प्राप्त कर लिया और 1249 हिजरी क़मरी में वे मुजतेहिद अर्थात इस्लामी ज्ञान में दक्ष हो गये। उन्होंने अत्यंत महत्वपुर्ण पुस्तकें लिखी हैं जो आज भी इस्लामी शिक्षा केंद्रों में पढाई जाती हैं इनमें रसायल और मकासिब नामक पुस्तकों का नाम विश्ष रुप से लिया जा सकता है।

 

Aug २८, २०१६ ११:३६ Asia/Kolkata
कमेंट्स