5 सितम्बर 1997 को विश्व प्रसिद्ध समाज सेविका मदर टेरेसा का भारत में निधन हुआ।

  • 5 सितम्बर 1839 को चीन में पहला अफ़ीम युद्ध शुरू हुआ। 
  • 5 सितम्बर 1914 को ब्रिटेन, फ्रांस, बेल्जियम और रूस के बीच लंदन समझौता हुआ।
  • 5 सितम्बर 1972 को म्यूनिख़ ओलंपिक के दौरान कुछ फ़िलीस्तीनी प्रतिरोधकर्ताओं ने ज़ायोनी शासन के अपराधों के जवाब में 11 इस्राईली एथलीटों को बंधक बना लिया और बाद में उनकी हत्या कर दी।
  • 5 सितम्बर 1986 को हाईजैक विमान में मुसाफ़िरों को बचाने की कोशिश में एयर इंडिया की एयर होस्टेस नीरजा भनोट की कराची में मौत हो गई।
  • 5 सितम्बर 1991 को नेल्सन मंडेला अफ़्रीक़ी नेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गये।
  • 5 सितम्बर 1997 को विश्व प्रसिद्ध समाज सेविका मदर टेरेसा का भारत में निधन हुआ था।
  • 5 सितम्बर 1999 को फ़िलिस्तीन व इस्राईल की तथाकथित शांति वार्ता को आगे बढ़ाने हेतु तत्कालीन ज़ायोनी प्रधानमंत्री एहुद बराक तथा पीएलओ के प्रमुख यासिर अराफ़ात के मध्य मिस्र के शरमुश्शैख़ क्षेत्र में एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए।

***

5 सितंबर 1857 को फ़्रांसीसी दार्शनिक और गणितज्ञ “आगस्ट कैंट” का निधन हुआ था। उनका जन्म  17 जनवरी 1798 को हुआ।  उन्होंने पेरिस में तत्कालीन विचारक सेंट साइमन के साथ वर्षों सहयोग किया।  बाद में आगस्ट कैंट ने पढ़ाने का कार्य आरंभ किया। उन्हें समाजशास्त्र के संस्थापकों में से एक माना जाता है। कैंट के विचारों को समाजशास्त्र में विशेष महत्व प्राप्त है।  समाजशास्त्र के अतिरिक्त गणित, दर्शनशास्त्र, भौतिकशास्त्र और खगोलशास्त्र में भी कैंट के अपने दृष्टिकोण थे।  उन्होंने पाज़िटिविज़्म या तथ्यवाद के विचारों का प्रतिपादन किया। वे 19वीं शताब्दी के प्रमुख एवं प्रभावशाली विचारक रहे हैं।  आगस्ट कैंट के विचारों से कार्ल मार्क्स, जान स्टुअर्टमिल और जार्ज एलियट जैसे लोग प्रभावित रहे हैं।

***

5 सितम्बर सन 1887 ईसवी को चीन में हवांग हू नदी का तूफान आरंभ हुआ। इस तूफ़ान से भारी बाढ़ आयी जो एक महीने तक जारी रहीं इस विनाशकारी बाढ़ ने लगभग 9 लाख लोगों की जान ले ली। कई शहर और सैकड़ों गांव बह गये तथा कृषि नष्ट हो गयी। इस नदी की लम्बाई 5 हज़ार दो सौ किलोमीटर है। यह पूर्वी चीन में बहती है।

***

5 सितम्बर सन 1993 ईसवी को मोरोको में इस्लामी जगत की एक भव्य मस्जिद का उदघाटन हुआ। यह आधुनिक और प्राचीन निर्माण शैली के मिश्रण का नमूना है। इसमें कुल मिलाकर एक साथ 1 लाख लोग नमाज़ पढ़ सकते हैं। बड़ी ही सुदर चूनाकारी से नमाज़ ख़ाने को सजाया गया है। इसी प्रकार मस्जिद से मिलाकर एक धार्मिक स्कूल और पुस्तालय भी बनाया गया है।

***

5 सितम्बर सन 1997 ईसवी को मदर टेरेसा का भारत के कोलकाता नगर मे निधन हुआ। उनकी मौत का कारण हृदय की गति का रुक जाना था। उन्होंने अपना पूरा जीवन दीन दुखियों की सेवा के लिए अर्पित कर दिया था।

***

14 शहरीवर सन 1360 हिजरी शम्सी को ईरान के उच्चतम न्यायाधीश अली क़ुद्दूसी को आतंकवादी गुट एम के ओ ने एक विस्फोट करके शहीद कर दिया। आयतुल्ला क़ुद्दूसी ने आयतुल्ला बुरुजर्दी अल्लमा तबातबाई और इमाम ख़ुमैनी जैसे वरिष्ट धर्मगुरुओ से शिक्षा ली। उन्होंने स्कूल भी खोला जोछ ज्ञान के क्षेत्र में उनकी गतिविधियों का परिचायक है। वर्ष 1341 में उन्होंने अत्याचारी शाह के विरुद्ध आरंभ किया इसी कारण उन्हे जेल भी जाना पड़ा। अपनी आयु के अंतिम वर्षों में वे इस्लामी शासन व्यवस्था के आधारों को मज़बूत करने में लगे रहे। इसी संदर्भ में उन्होंने इमाम ख़ुमैनी के कहनक पर न्यायाधीश का भारी दायित्व संभाला। और इंतत: एम के ओ की आतंकवादी कार्रवाई में शहीद हुए।

 

***

24 जिलहिज्जा सन 10 हिजरी क़मरी को प्रसिद्ध इस्लामी इतिहासकारों के अनुसार पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद स युवाओं के उददेश्य से अपनी सुपुत्री हज़रत फ़ातेमा ज़हेरा सलामुल्लाह अलैहा अपने दामाद और चचेरे भाई हज़रत अली अ तथा दो नातियों हज़रत इमाम हसन और हज़रत इमाम हुसैन अ के साथ मदीना नगर से निकले ताकि ईसाई धर्मगुरुओं के साथ मुबाहिला करके अपनी और अपने अपने धर्म की सच्चाई को प्रमाणित कर दें। मुबाहिला उस शास्त्रार्थ को कहते हैं जिसमें दोनों पक्ष एक दूसरे पर ईश्वरीय प्रकोप की प्रार्थना करते हैं और असत्य पर रहने वाला पक्ष ईश्वरीय प्रकोप का पात्र बनता है।

 

टैग्स

Sep ०३, २०१६ ११:३१ Asia/Kolkata
कमेंट्स