1010 प्रसिद्ध ईरानी महाकवि " फिरदौसी" ने अपना अमर रचना " शाहनामा" पूरी की।

1535 बहादुर शाह ने चित्तौड़ के किले पर क़ब्ज़ा किया।

1673 छत्रपति शिवाजी महाराज ने पन्हाला दुर्ग पर क़ब्ज़ा।

1736 ईरान में अफशारी साम्राज्य के संस्थापक नादिर शाह (दुर्रानी) ने ताज पहना

1817 न्यूयार्क स्टाक एक्सचेंज की स्थापना हुई।

1921 प्रसिद्ध कवि साहिर लुधवानवी का जन्म हुआ।

1948 विदेशी उड़ानों के लिए एयर इंडिया ओवरसीज़ की स्थापना हुई।

2000 गुजरात राज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ ( आरएसएस) की गतिविधियों में भाग लेने पर लगा प्रतिबंध हटा दिया।

2004 इराक़ में नये संविधान पर हस्ताक्षर हुए।

***

 

8 मार्च सन 1968 ईसवी को फ़िलिपीन में तत्कालीन राष्ट्रपति और तानशाह मारकोस के विरुद्ध मोरो लिबरेशन फ्रंट ने सशस्त्र संघर्ष आरंभ किया। 

मारकोस पूरी तरह अमरीका के अनुयायी थे उनके शासन काल में फ़िलिपीन के हज़ारों मुसलमान सरकारी सैन्य बलों के हाथों हताहत और गिरफ़तार हुए। मुसलमानों के अधिकार उन्हें दिलाने के लिए मोरो लिबरेशन फ़्रंट नामक एक बड़े छापामार गुट ने मारकोस के विरुद्ध अपनी कार्रवाही आरंभ की, किंतु मारकोस के सत्ता से हटने के बाद इस गुट ने नयी सरकार से वार्तालाप किया जिसके परिणामस्वरुप दोनों पक्षों के बीच संघर्ष विराम पर हस्तक्षर हुए। दोनों पक्षों के बीच हुए समझौते के आधार पर मुसलमान बाहुल्य वाले मीन्डानाओं प्रांत को स्वायत्तता मिली।

 

8 मार्च वर्ष 1875 को उर्दू शायरी में मरसिया कहने वाले प्रसिद्ध शायर मिर्ज़ा सलामत अली दबीर का स्वर्गवास हुआ। वे 29 अगस्त वर्ष 1803 को दिल्ली में जन्मे और लखनऊ में फ़ार्सी और अरबी भाषाओं में दक्षता प्राप्त की। उन्हें बचपन से ही पैग़म्बरे इस्लाम (स) और उन के पवित्र परिजनों की प्रशंसा में रूचि थी। छोटी आयु में ही उन्होंने मरसिया कहना आरंभ कर दिया और आयु के साठ वर्ष मरसिया कहने में बिताए। दबीर ने मरसिये के स्तर को ऊंचा किया। शायरी में उनकी तुलना अधिकतर मीर अनीस से की जाती है।

 

***

17 इस्फ़ंद वर्ष 1371 हिजरी शम्सी को ईरान के प्रसिद्ध संगीतकार उस्ताद अहमद एबादी का देहान्त हुआ। उनको सितार और ईरान के क्लासिकल संगीत में दक्षता प्राप्त थी। उस्ताद अहमद एबादी ने युवाकाल से ही संगीत की शिक्षा प्राप्त करना आरंभ कर दिया।  वर्षों तक सितार वादन के बाद उन्होंने सितार बजाने की नई शैली पेश की और इसे प्रचलित किया। उस्ताद अहमद एबादी ने ईरानी संगीत को विकसित करने में बहुत योगदान दिया।

 

***

19 जमादिउस्सानी सन 8 हिजरी क़मरी को ज़ातुस्सलासिल नामक लड़ाई मुसलमानों की विजय के साथ समाप्त हुई। इस लड़ाई का कारण यह था कि कुछ गुट मुसलमानों पर आक्रमण करने के लिए एकजुट हो गये थे जब यह सूचना पैग़म्बरे इस्लाम(स) तक पहुंची तो पैग़म्बर (स) ने अपनी सेना उनके, मुक़ाबले के लिए भेजी किंतु यह सेना शत्रु की सैनिक शक्ति से प्रभावित होकर लौट आयी। पैग़म्बरे इस्लाम (स) ने सेनापति बदल दिया किंतु फिर भी सेना वापस आ गयी। अंतत: पैग़म्बरे इस्लाम (स) ने हज़रत अली (अ) को सेना का नेतृत्व संभालने को कहा हज़रत अली (अ) ने बड़े ही साहस के साथ शत्रु का मुक़ाबला किया और इस्लामी सेना के नाम एक और विजय दर्ज करायी। बहुत से इतिहासकारों का मानना है कि कुरआन का सूरए आदियात इसी अवसर पर उतरा था।

टैग्स

Feb २५, २०१७ १२:४१ Asia/Kolkata
कमेंट्स