11 मार्च सन 1302 ईसवी को शेक्सपियर के अनुसार रोमियो और जूलिएट का विवाह हुआ।

11 मार्च सन 1669 ईसवी को इटली में ज्वालामुखी फटने से 15 हज़ार लोग मारे गए।

11 मार्च सन 1702 ईसवी को लंदन में पहला अंग्रेज़ी अख़बार दि डेली कोरेंट प्रकाशित हुआ।

11 मार्च सन 904 ईसवी को माल्टा द्वीप इस्लामी क्षेत्रों में शामिल हो गया। सन 1091 ईसवी तक इस द्वीप पर मुसलमानों का राज रहा माल्टा कई छोटे द्वीपों पर आधारित है। इसका क्षेत्रफल 316 वर्ग किलोमीटर है। माल्टा द्वीप योरोपीय महाद्वीप के दक्षिण में स्थित है यह ट्यूनीशिया और इटली के निकट है।

11 मार्च सन 1985 ईसवी को पूर्व सोवियत संघ में चेरनेन्कोव के निधन की घोषणा के बाद नेतृत्त का संकट समाप्त हुआ। कम्युनिस्ट पार्टी के राजनैतिक कार्यालय के सबसे कम आयु वाले गोरबाचोफ़ को चेरनेन्कोव का उत्तराधिकारी बनाया गया। मिख़ाइल गोरबाचोफ़ के कम्यूनिस्ट पार्टी का नेता चुने जाने के बाद सोवियत संघ में व्यापक परिवर्तन हुए और छ: वर्ष के बाद सोवियत संघ विघटित हो गया।

शक्ति मिल जाने के बाद गोरबाचोफ़ ने पुनर्निर्माण के सिद्धांन्त के अंतर्गत आर्थिक परिवर्तन किये। खुले राजनैतिक वातावरण के नाम पर अपनी दृष्टिगत आंतरिक नीतियां पेश कीं। इन नीतियों को लागू करने में बहुत सी रुकावटों का सामना हुआ। वे न केवल यह कि पतन की ओर बढ़े तथा सोवियत संघ के भीतरी मतभेदों और टकराव को समाप्त करने में सफल नहीं हुए बल्कि इससे अमरीका के हस्तक्षेप की भूमि और अधिक प्रशस्त हो गई इस प्रकार से कि सन 1991 में होने वाले विद्रोह को कुचलने में सफल हो जाने के बावजूद गोरबाचोफ़ इसी वर्ष के दिसम्बर महीने में सत्ता से हटने पर विवश हुए।

 

***

20 इसफ़ंद सन 1363 हिजरी शम्सी को पाकिस्तान के विख्यात शायर अब्दुल हमिद इरफ़ानी का 80 वर्ष की आयु में निधन हुआ। उन्होंने इस्लामी संस्कृति के प्रचार प्रसार और पश्चिम के सांस्कृतिक प्रहार का मुक़ाबला करने में मुख्य भूमिका निभाई। वे अल्लामा इक़बाल के शिष्यों में से थे। इरफ़ानी ने शायरी और साहित्य के विभिन्न पहलुओं से संबंधित चालीस से अधिक पुसतकें लिखी हैं जिनमें से कुछ ईरान में प्रकाशित हो चुकी हैं। पाकिस्तान बनने से पहले सन 1945 में वे भारत की ओर से अंग्रेज़ी भाषा के प्रोफ़ेसर बन कर ईरान आये थे।

 

***

22 जमादिस्सानी सन 391 हिजरी क़मरी को मुसलमान शायर इब्ने हज्जाज का निधन हुआ। उनका जन्म बग़दाद नगर में हुआ था। उन्होंने युवावस्था से शायरी आरंभ की। तत्कालीन प्रसिद्ध शायर महलबी के साथ उनका उठना बैठना था। उनका दस प्रतियों पर आधारित पद्य संकलन बग़दाद पुस्तकालय में अब भी मौजूद है। इसका कुछ भाग इस्ताम्बूल और कुछ भाग ब्रिटेन के संग्रहालय में है।

 

Mar ०१, २०१७ ११:२७ Asia/Kolkata
कमेंट्स