जवानी ज़िंदगी का बहुत महत्वपूर्ण कालखंड है अतः ज़रूरी है कि इंसान इस दौर की क़द्र करे।

 हम इस कार्यक्रम में मनुष्य की कामयाबियों में युवाकाल की भूमिका के बारे में चर्चा कर रहे हैं। इंसान जीवन शुरू होने से लेकर उसके अंत तक विभिन्न चरणों से गुज़रता है जबकि इस बीच जवानी का ज़माना बहुत सुंदर, वैभवशाली तथा मूल्यवान होता है। जवानी वह दौर है जिसे लोग ज़िंदगी की बहार और सुनहरा दौर कहते हैं। बहुत से लोग अधेड़ उम्र और बुढ़ाने के चरण मे पहुंच जाने के बाद जब युवाओं को देखते हैं तो उनकी पहली नसीहत यही होती है कि अपनी जवानी के दौर की क़द्र करो। जब तक जवानी है ज़िंदगी संवार लो।

इन बातों से हमें अनुमान हो जाता है कि जवानी का कितना महत्व है। बहुत से युवा ऐसे होते हैं जो अपने जीवन के तेज़ी से गुज़र जाने वाले इस कालखंड का सदुपयोग करते हैं और भारी सफलताएं अर्जित कर ले जाते हैं। आज के कार्यक्रम में हम ऐसे कुछ युवाओं से आपको परिचित कराएंगे जिन्होंने अपने जीवन में बड़ी सफलता प्राप्त की और ऊंचाइयों पर पहुंचने के लिए जवानी के दौर का सदुपयोग किया।

किसी भी इंसान की कामयाबी के लिए महत्वपूर्ण बिंदु यह है कि उसके सामने लक्ष्य हो। कामयाब युवा वही है जो अपने जीवन में अल्पकालिक और दीर्घकालिक लक्ष्य रखता हो तथा इन लक्ष्यों के अनुरूप योजनाबंदी करे। वह अपने विकास के संबंध में सभी क्षेत्रों पर नज़र रखता है तथा जीवन के किसी भी पहलू को दूसरे पहलू की भेंट नहीं चढ़ाता। कामयाब युवा वह होता है जो दूरदर्शी हो तथा अपने लक्ष्यों और उद्देश्यों की पूर्ति के लिए परिश्रम करे। युवा को चाहिए कि थोड़े थोड़े अंतराल से मूल्यांकन करे कि वह अपने लक्ष्य से कितना क़रीब हुआ है। एक कामयाब युवा की महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि वह भलीभांति जानता है कि उसकी इच्छा क्या है और वह अपना लक्ष्य निर्धारित करते समय यह ज़रूर देख लेता है कि वह किन परिस्थितियों में है। अर्थात न तो वह कल्पनाओं और सपनों के संसार में भटकना चाहता है और न ही ख़ुद को बहुत कमज़ोर मानता है बल्कि यथार्थवादी रवैया अपनाते हुए अपने जीवन के लक्ष्यों का निर्धारण करता है और इन लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए सटीक योजनाबंदी करता है।

दूसरी ओर एक युवा भविष्य के प्रति आशाओं से भरा होता है। उसे पता होता है कि जीवन में आम तौर पर मौजूद कठिनाइयों के बावजूद इंसान सफलताएं अर्जित कर सकता है। युवा हमेशा नकारात्मक सोच से खुद को बचाता है। यह संभव है कि जीवन में किसी भी व्यक्ति के सामने बहुत सी कठिनाइयां आ जाएं लेकिन कामयाब युवा भलीभांति जानता है कि यदि उसे आगे बढ़ना और अपने लक्ष्य तक पहुंचना है तो संयम से काम लेते हुए हालात का सामना करना होगा, आवश्यक संभावनाओं को एकत्रित करना होगा और धीरे धीरे रास्ते की रुकावटों को हटाते हुए आगे बढ़ना होगा। बड़े लक्ष्य इसी प्रकार प्राप्त किए जाते हैं।

 

कामयाब युवा कभी भी रास्ते में रुकावट देखकर घबराता नहीं, कठिनाइयों को देखकर दुखी नहीं होता और निराशा को अपने पास नहीं आने देता बल्कि अपनी क्षमताओं का भरोसा करते हुए बहुत से काम अंजाम देने की शक्ति प्राप्त कर लेता है। वह ख़ुद को और अपनी क्षमताओं को भलीभांति पहचानता है तथा हर दिन उसके मन मस्तिष्क में प्रकाश बिखेरने वाली आशा के सहारे आगे बढ़ता रहता है। यह युवा कहीं भी रुकता नहीं और अपना सफ़र हर हाल में जारी रखता है। शायद आपको सुनकर ऐसा प्रतीत हो कि यह बातें ज़मीनी सच्चाई से दूर हैं लेकिन यदि आप अपने आस पास नज़र दौड़ाएं तो एसे युवाओं को देखेंगे जो आपसे ज़्यादा कठिन परिस्थितियों में हैं लेकिन उनके हौसले बुलंद हैं।

अधिकतर युवा इस प्रकार व्यवहार करते हैं मानो यह जवानी हमेशा बाक़ी रहेगी।जब उनसे कहा जाता है कि जवानी के इस दौर की क़द्र करो तो वे सोचने लगते हैं कि यह असमय बात है बुढ़ापा आने में अभी बहुत समय बाक़ी है मगर देखते ही देखते जवानी निकल जाती है। अतः सफल युवा वह है जिसे अपने युवाकाल के महत्व का आभास है और वह इस काल का लाभ उठाते हुए अपना जीवन संवारता है। कुछ भी सीखने के लिए युवाकाल अच्छा समय है। हालांकि इंसान को जीवन भर सीखते रहना चाहिए लेकिन यदि वह चाहता है कि कम समय में अधिक से अधिक कौशल प्राप्त करे तो उसे चाहिए कि युवाकाल में कौशल प्राप्त करने का प्रयास करे। एक कामयाब युवा हमेशा अपना भविष्य संवारने के बारे में सोचता है और उसके लिए मेहनत करता है।

 वह कभी भी बेकार नहीं बैठता। या तो वह कुछ सीख रहा होता है या फिर सीख जाने के बाद अपना कौशल दिखा रहा होता है। इसका यह अर्थ भी नहीं है कि युवा किसी प्रकार का मनोरंजन न करे। मनोरंजन भी आवश्यक दिनचर्या का भाग है। लक्ष्य और उद्देश्य के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहने के साथ ही युवा के भीतर उत्साह रहता है और वह हमेंशा मुसकुराता रहता है। वह अपने दोस्तों के साथ खेलों में शामिल होता है और परिवार के साथ स्पेहपूर्ण वातावरण में समय बिताता है। लेकिन कभी भी अपने लक्ष्य की उपेक्षा नहीं करता।

आप जहां भी जिस वातावरण में भी हों आपकी सफलता का मार्ग खुला रहता है। यदि आप चाहते हैं कि इतनी बड़ी सफलताएं प्राप्त हों जिनके बारे में आपने पहले से सोचा भी नहीं है तो ज़रूरी है कि आप अपनी क्षमताओं को कम न समझिए। अभी इसी क्षण उठ खड़े होइए और आगे बढ़िए। ज़िंदगी की बहार हमेशा बाक़ी नहीं रहती पलक झपकते ही समाप्त हो जाती है और आप अपने को उन लोगों के बीच खड़ा पाते हैं जो जवानों को नसीहत कर रहे होते हैं कि अपनी जवानी का क़द्र करो।

रसूल नौरोज़ियान एक कामयाब ईरानी युवा हैं। उनका जन्म फ़रवरी 1984 में एक धार्मिक परिवार में हुआ जो शहरे कुर्द नामक क्षेत्र में रहता है। उन्होंने इसी शहर में शिक्षा ग्रहण की और इस समय वह इसी शहर की युनिवर्सिटी में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के अंतिम साल में हैं। यह ईरानी जवान एक आविष्कारक बन चुका है और उसने वर्ष 2008 में जेनेवा में होने वाली वैज्ञानिक प्रतियोगिता में दो पुरस्कार जीते। वह एक कामयाब ईरानी युवा का नमूना हैं जो अब तक कई आविष्कार कर चुके हैं और उन्होंने देश और समाज का नाम ऊंचा किया है। वह टेलीस्कोप का एनालिसिस सिस्टम बना चुके हैं। उन्होंने धरती से धरती पर मार करने वाले मिज़ाइल का गाइडिंग सिस्टम भी बनाया है। इसी प्रकार उन्होंने चिकित्सा विज्ञान और रसायन शास्त्र के क्षेत्र में भी कई आविष्कार किए।

एक और कामयाब ईरानी युवा हैं कामबीज़ महदीज़ादे वह भूविज्ञान में पोस्ट ग्रेजुएशन कर चुके हैं और डाक्ट्रेट कर रहे हैं। महदी ज़ादे अब तक 8 आविष्कार कर चुके हैं और उनके चार आविष्कारों को चीन, ताइवान, क्रोएशिया और रोमानिया में पुरस्कार मिल चुके हैं। उनकी आयु 28 साल है और वह विश्य के कम उम्र आविष्कारको में गिने जाते हैं। महदीज़ादे ईरान की बहुत सफल युवाओं में से एक हैं। महदीज़ादे इस समय ईरान के पेट्रोलियम मंत्रालय को भी अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

डाक्टर यासिर रूदी भी ईरान के आविष्कारक युवा हैं उनका जन्म वर्ष 1981 में तेहरान में हुआ। उन्होंने अलबुर्ज़ स्कूल में आरंभिक शिक्षा प्राप्त की और शरीफ़ इंडस्ट्रियल युनिवर्सिटी से फ़िज़िक्स में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन किया जबकि इटली की एसआईएसएसए स्टडी संस्थान से डाक्ट्रेट किया। उन्होंने वर्ष 2015 का एरिक केन्डल एवार्ड प्राप्त किया। यासिर रूदी विश्व स्तर की ख्याति रखने वाले युवाओं में जिन्होंने फ़िज़िक्स के साथ ही स्नायुतंत्र के क्षेत्र में प्रभावी शोध किए हैं। उन्होंने अपने शोध से इन दोनों विषयों के एक दूसरे से गहरे संबंध के नए आयामों का पता लगाया।

जीवन अनुभवों का संग्रह है इन अनुभवों में से कुछ एसे होते हें जो हमारी आत्मा को विशेष उत्साह प्रदान करते हैं। हम इस संसार में इसलिए आए हैं कि अपने व्यक्तित्व का विकास करें और यह अनुभव प्राप्त करें कि जीवन में आने वाली रुकावटों को कैसे दूर किया जाता है। समाजशास्त्री हेनरी फ़ोर्ड कहते हैं कि सफलता आसानी से हासिल नहीं होती। जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए यह सीखना ज़रूरी है कि हर पराजय के बाद कैसे खुद को संभाला जाता है। यह ज़रूरी है कि विफलता को प्रगति के मार्ग में रुकावट न बनने दिया जाए।


टैग्स

Apr २७, २०१६ १५:४० Asia/Kolkata
कमेंट्स