• मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 11

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 11

    Sep १८, २०१८ १४:२५

    कर्बला की घटना के बारे में जो सवाल सबसे पहले मन में आता है वह यह है कि ऐतिहासिक दृष्टि से सन 61 हिजरी में क्या आशूरा की घटना उसी प्रकार घटी थी जैसा उसे आज हम जानते और पहचानते हैं?

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 10

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 10

    Sep १७, २०१८ १४:३८

    इस्लामी प्रशिक्षण व्यवस्था में लोगों के व्यक्तित्व को संवारने का एक महत्वपूर्ण कारक धार्मिक आदर्शों के पदचिन्हों पर चलना है।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 9

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 9

    Sep १७, २०१८ १४:०३

    नौ मुहर्रम को तासूआ कहा जाता है कई  दिन पहले  यज़ीदी कमांडर, उमर इब्ने सअद की सेना ने इमाम हुसैन और उनके परिजनों पर पानी बंद कर दिया है।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 8

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 8

    Sep १६, २०१८ १६:३६

    पैग़म्बरे इस्लाम के नाती इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के छोटे से कारवां के मुक़ाबले में दुश्मन के सैनिकों की संख्या में हर क्षण वृद्धि होती जा रही थी लेकिन हुसैनी कारवां में भय व चिंता का कोई चिन्ह नहीं दिखाई दे रहा था क्योंकि इमाम हुसैन का पूरा अस्तित्व और उनके विचार क़ुरआनी आयतों का दर्पण थे और उनके कर्म क़ुरआनी शिक्षाओं को चरितार्थ करते थे।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 7

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 7

    Sep १५, २०१८ १६:१६

    इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का कारवां आगे बढ़ता जा रहा था और कर्बला का फ़ासला घटता जा रहा था।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 6

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 6

    Sep १५, २०१८ १६:१०

    इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का कारवां एक सूखे और गर्म मरुस्थल के सामने था और धीरे धीरे आगे बढ़ता जा रहा था।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 5

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 5

    Sep १५, २०१८ १४:५६

    कर्बला के आंदोलन के संस्थापक इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम 28 रजब सन 60 हिजरी को मदीने से निकले और दूसरी मुहर्रम सन 61 हिजरी को कर्बला पहुंच गए।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 4

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 4

    Sep ११, २०१८ १५:४१

    इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम लोगों के नेता, ईश्वरीय तर्क और इंसानों के मार्गदर्शक के रूप में अपनी मूल्यवान आयु लोगों को ज्ञान प्रदान करने, समाज को स्मस्थ बुराइयों से दूर करने और लोगों को एक दूसरे से संबंधों को बेहतर बनाने में व्यतीत की।

  • मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 3

    मोहर्रम का विशेष कार्यक्रम- 3

    Sep ११, २०१८ १५:३२

    इमाम हुसैन कर्बला में अपने आंदोलन के माध्यम से दुनिया में त्याग, बलिदान, शौर्य, सच्चाई पर मर मिटने और असत्य के सामने सिर न झुकाने के प्रतीक बन गए हैं।