Aug ०१, २०२१ १०:०५ Asia/Kolkata
  • पेगासस जासूसी कांड पर सदन में घमासान तेज़, सभापति वेंकैया नायडू के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव ला सकता है विपक्ष

इस्राईली स्पाइवेयर पेगासस के ज़रिए पत्रकारों, कार्यकर्ताओं, सुप्रीम कोर्ट के जजों, विपक्षी नेताओं और उद्योगपतियों की जासूसी के मुद्दे पर विपक्ष के साथ संसद में दो हफ़्ते से जारी टकराव को देखते हुए मोदी सरकार ने मानसून सत्र को समय से पहले ही ख़त्म करने का मन बना लिया है।

इस मुद्दे पर विपक्ष एकजुट है और सदन में बहस की अपनी मांग से पीछे नहीं हट रहा है, जिसके कारण दोनों सदनों में सियासी घमासान थमने के आसार नज़र नहीं आ रहे हैं।

इस स्थिति का लाभ उठाते हुए मोदी सरकार ने पिछले 4 दिनों के दौरान 8 विधेयकों को बिना चर्चा के ही पारित करा लिया है और अपने विधायी एजेंडे को पूरा करने की दिशा में कदम तेज़ कर दिए हैं।

वहीं संसद सत्र समाप्त करने की योजना को लेकर विपक्ष ने सरकार पर संसद से भागने का आरोप लगाया है। सत्र ख़त्म करने के प्रस्ताव का विरोध करने का भी एलान किया है।

मानसून सत्र समय पूर्व ख़त्म करने की सरकार की योजना पर विपक्ष की ओर से कड़ा एतराज़ जताते हुए कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि पेगासस पर चर्चा न हो, इसलिए सरकार ही नहीं चाहती है कि संसद चले।

सूत्रों का यह भी कहना है विपक्षी दल अगले हफ़्ते राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव ला सकते हैं।

अविश्वास प्रस्ताव लाने की शुरुआत तृणमूल कांग्रेस, डीएमके, कांग्रेस की तरफ़ से की जाएगी, जिसमें अन्य दल भी शामिल होंगे। विपक्ष ने दावा किया है कि उन्होंने पेगासस, मंहगाई और वैक्सीन जैसे कई अहम मुद्दों पर सरकार के बयान के लिए नोटिस दिया है, लेकिन केंद्र ने इसपर ध्यान नहीं दिया। संसद का मानसून सत्र 19 जुलाई से शुरू हुआ था। msm

टैग्स