Sep २०, २०२१ १८:०७ Asia/Kolkata

हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के ऐतिहासिक बाज़ार चांदनी चौक के सौंदर्यीकरण और विकास कार्यों का उद्घाटन किया है। इस बाज़ार का निर्माण मुग़ल बादशाह शाह जहां के आदेशानुसार, 17वीं सदी में किया गया था। जिसे बादशाह ने अपनी बेटी जहां आरा को उपहार स्वरूप दिया था।

यह बाज़ार दिल्ली के सबसे भीड़भाड़ वाले इलाक़ों में से एक है, बड़ी संख्या में लोग हर रोज़ वहां ख़रीदारी करने जाते हैं...

पहले यहां काफ़ी भीड़ रहती थी, अब भीड़ काफ़ी कम हो गई है, यहां दिन में ट्रैफ़िक पर पाबंदी है और लोग पैदल ही चलते हैं, बहुत अच्छा हो गया है।

... बाज़ार का पुनर्निमार्ण अच्छी योजना है, अब सब बराबर हैं कोई सवार और कोई पैदल नहीं है, हालांकि बड़ी उम्र के लोगों के लिए रिक्शे की सुविधा है, जो एक अच्छी बात है।

इस बाज़ार में 27000 दुकानें हैं, जिनमें से 10,000 दुकानें कपड़ों की हैं।

... व्यापारियों को अपना सामान लाने ले जाने में थोड़ी दिक़्क़त होगी, लेकिन अब यहां काफ़ी साफ़ सफ़ाई है।

इस बाज़ार में जहां दुकानें हैं, वहीं मुसलमानों के लिए मस्जिद, हिंदुओं और जैनों के लिए मंदिर, सिखों के लिए गुरुद्वारा और ईसाईयों के लिए चर्च की व्यस्था है।

इस बाज़ार को 4 सदियां पहले तैयार किया गया था। अभी भी भारत की राजधानी दिल्ली की अर्थव्यवस्था की धड़कन वह बाज़ार हैं, जिन्हें मुग़ल शासकों ने बनवाया था।

हसन अब्दुल मलिकि आईआरआईबी, दिल्ली

टैग्स