Oct १३, २०२१ १३:२६ Asia/Kolkata
  • उफ़्फ़ यह नफ़रत और दरिंदगी! हरियाणा में 18 साल के छात्र की दर्दनाक लिंचिंग

हरियाणा के महेन्द्रगढ़ में एक पिछड़ी जाति के छात्र पर बेरहमी से लाठी-डंडे बरसाने और दरिंगदगी से लात-घूसों की बौछार की घटना सामने आई है, जिसमें पीड़ित की मौत हो गई है।

इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें कई लोग एक साथ छात्र को बड़ी बेहरमी से मार रहे हैं और उसे कुछ देर ज़िंदा रखने के लिए बीच-बीच में ज़बरदस्ती पानी भी पिला रहे हैं।

भारतीय मीडिया के मुताबिक़, 9 अक्टूबर को यह लिंचिंग हुई है, लेकिन वीडियो अब सामने आया है।

इस मामले में महेन्द्रगढ़ पुलिस ने आधा दर्जन से ज़्यादा लोगों पर हत्या का केस दर्ज किया है। एक आरोपी को गिरफ्तार भी किया गया है। कोर्ट ने उसे दो दिन की रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी गौरव की मौत का कारण बेरहमी से हुई पिटाई ही सामने आई हैं।

महेन्द्रगढ़ ज़िले के गांव बवाना निवासी 18 वर्षीय छात्र गौरव यादव 9 अक्टूबर की दोपहर महेन्द्रगढ़ से बाइक पर अपने घर लौट रहा था। तभी उसे रास्ते में गांव मालड़ा में नहर के पास रवि, कप्तान, अजय और मोहन समेत 10 से अधिक लोगों ने रोक लिया। इससे पहले गौरव कुछ समझ पाता उन लोगों ने उसे चारों तरफ से घेर लिया और लाठी डंडों से पीटना शुरू कर दिया।

गौरव हाथ जोड़कर रहम की भीख मांगता रहा, लेकिन आरोपी उस पर लगातार हमला करते रहे। आरोपी कुछ देर रुकने के बाद गौरव को पानी पिलाते और फिर पीटना शुरू कर देते थे।

सूत्रों के अनुसार 15 सितंबर को पीड़ित और एक हमलावर के बीच किसी मामूली सी बात पर कहासुनी हो गई थी, जिसके बाद यह लिंचिंग की गई है।

जानकारों का मानना है कि 2014 में प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी की केन्द्र में सरकार बनने के बाद से अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ नफ़रत और हिंसा का जो सिलसिला शुरू हुआ था, अब वह हर किसी को अपनी आग में झुलसा रहा है। msm

टैग्स