Dec ०६, २०२१ १५:५४ Asia/Kolkata
  • भारत और रूस के बीच बड़ा सैन्य समझौता, समझौते में अमेठी को मिला विशेष दर्जा, जानिए क्या वजह है???

भारत और रूस के बीच 5 हज़ार 100 करोड़ रुपये का रक्षा समझौता हुआ हुआ है।

यह समझौता AK-203 रायफ़लों के निर्माण का है। इन राइफ़लों की मैन्युफ़ैक्चरिंग उत्तर प्रदेश के अमेठी में की जाएगी। सोमवार को भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और रूसी रक्षा मंत्री सेरगे शोइगु के बीच हुई बातचीत के दौरान यह समझौता हुआ है। इस समझौते के अंतर्गत 5 लाख से ज्यादा राइफलें तैयार की जानी हैं।

रूस और भारत के बीच अगले 10 साल तक सैन्य तकनीक के सहयोग को लेकर भी समझौता हुआ है और यह समझौता 2021 से 2031 तक लागू रहेगा।

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने समझौते के बारे में ख़बर देते हुए ट्वीट किया कि भारत को मज़बूत सहयोग देने के लिए हम रूस का अभिनंदन करते हैं, हम उम्मीद करते हैं कि यह सहयोग शांति, सद्भाव और स्थिरता लेकर आएगा, हर्ष की बात है कि हमारे बीच छोटे हथियारों के निर्माण और सैन्य सहयोग को लेकर कई तरह के समझौते हुए है।

इससे पहले भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रूसी रक्षा मंत्री जनरल सर्गेई शोइगु के साथ बैठक में कहा था कि भारत और रूस के संबंध बहुपक्षवाद, वैश्विक शांति, समृद्धि और आपसी समझ और विश्वास पर आधारित हैं।

भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उभरती भू-राजनीतिक परिस्थितियों में आज वार्षिक भारत-रूस शिखर सम्मेलन एक बार फिर हमारे देशों के बीच विशेष रणनीतिक साझेदारी के महत्व की दर्शाता है।

उधर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 2+2 अंतर मंत्रालयी वार्ता में कहा कि आतंकवाद, हिंसक उग्रवाद की लंबे समय से चली आ रही चुनौतियां नई चुनौतियों में से हैं। जयशंकर ने अपनी टिप्पणी में कहा कि भारत एवं रूस के संबंध बदल रहे विश्व में ‘बहुत करीबी एवं समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं।

उन्होंने कहा कि संबंध असाधारण रूप से स्थायी रहे हैं। भारतीय विदेश मंत्री ने कहा कि हम वैश्विक भूराजनीतिक माहौल के एक महत्वपूर्ण चरण में मिल रहे हैं जिसमें बहुत बदलाव हो रहे हैं विशेषकर कोविड-19 महामारी के बाद में।

उन्होंने आतंकवाद, हिंसक उग्रवाद और चरमपंथ को क्षेत्र की प्रमुख चुनौती करार दिया। जयशंकर ने कहा कि करीबी मित्र एवं सामरिक भागीदार के रूप में भारत एक रूस हमारे साझा हितों को सुरक्षित रखने और अपने लोगों की शांति एवं समृद्धि को सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति का मध्य एशिया सहित व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

ज्ञात रहे कि भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर ने रूसी रक्षा मंत्री जनरल सर्गेई शोइगु और रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के साथ भारत और रूस के बीच पहली बार 2+2 अंतर-मंत्रालयी वार्ता की। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स