Dec ०८, २०२१ २२:०८ Asia/Kolkata
  • औरंगजेब ने 400 मंदिरों के लिए जमीन दान की थीः अमीनुल इस्लाम

असम की राजनीतिक पार्टी, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के विधायक अमीनुल इस्लाम ने कहा है कि औरंगजेब ने 400 मंदिरों के लिए जमीन दान की थी।

ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के विधायक अमीनुल इस्लाम ने कहा है कि औरंगजेब ने 400 मंदिरों के लिए जमीन दान की थी। उन्होंने कहा कि जिन 400 मंदिरों के लिए जमीन दान की गई थी उन्हीं में से एक मंदिर, गुवाहाटी का प्रसिद्ध कामाख्या देवी मंदिर भी है।

भारतीय संचार माध्यमों के अनुसार मंगलवार को अमीनुल इस्लाम ने एएनआई से बात करते हुए कहा कि मैं वही कह रहा हूं जो भारत ने मुगल शासन के दौर में देखा था।  अमीनुल इस्लाम ने कहा कि अन्य मुगल शासकों ने भी मंदिरों और पुजारियों के लिए जमीन दान की थी। इनमें से ही एक कामाख्या मंदिर भी है।

उन्होंने कहा कि एक इतिहासकार ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि औरंगजेब ने 400 से ज्यादा मंदिरों के लिए जमीनें दान की थीं।  अमीनुल इस्लाम ने कहा कि अन्य मुगल शासकों ने भी मंदिरों और पुजारियों के लिए जमीनें दान की थीं। इनमें से ही एक कामाख्या मंदिर भी है। अमीनुल इस्लाम ने कहा कि औरंगजेब ने भारत में कई सौ मंदिरों को भूमि दान की थी, उसने वाराणसी में जंगमवाड़ी मंदिर को भी 178 हेक्टेयर भूमि दान की थी।

एएनआई के विधायक के अनुसार कामाख्या मंदिर के लिए औरंगजेब का भूमि अनुदान, अभी भी ब्रिटिश संग्रहालय में प्रदर्शित है।

अमीनुल इस्लाम की पुस्तक 'पवित्र असम' के मुताबिक औरंगजेब के दरबार के एक अधिकारी ने जमीनों के दान का आदेश दिया था। अपने दावों को लेकर ऐतराज पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा को मुझे धमकाने के बजाय असम साहित्य सभा को धमकी देनी चाहिए जिसने यह पुस्तक छापी है।

उन्होंने कहा कि हजारों शासकों के दौर में भारत सेक्युलरिज्म रहा है, भले ही उन शासकों का मजहब कुछ भी रहा हो इसलिए असम के मुख्यमंत्री का यह कहना अनुचित है कि आजादी के बाद ही भारत में सेक्युलरिज्म आया है।

AIUDF के विधायक अमीनुल इस्लाम ने कहा कि देश में सेक्युलरिज्म की भावना हजारों साल से मौजूद है।  अमीनुल इस्लाम के अनुसार इसकी शुरुआत 1947 के बाद से नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि असम के सीएम ने कहा था कि भारत 1947 के बाद से ही सेक्युलर हुआ है।

इसके जवाब में मैंने कहा है कि भारत में जिसने भी शासन किया उसने सेकुलरिज्म का पालन किया है।  अमीनुल इस्लाम ने बताया कि हिंदू शासकों के दौर में मुस्लिम वर्ग के लोग अपनी आस्था के लिए आजाद थे और ऐसी ही स्थिति मुस्लिम शासकों के दौर में भी थी। अमीनुल इस्लाम ने कहा कि भारत हजारों वर्षों से सेक्युलर रहा है।

अमीनुल इस्लाम की पुस्तक 'पवित्र असम' के मुताबिक औरंगजेब के दरबार के एक अधिकारी ने जमीनों के दान का आदेश दिया था।

अपने दावों को लेकर ऐतराज पर उन्होंने कहा कि असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा को मुझे धमकाने की बजाय असम साहित्य सभा को धमकी देनी चाहिए, जिसने यह पुस्तक छापी है। उन्होंने कहा कि हजारों शासकों के दौर में देश में सेक्युलरिज्म रहा है, भले ही उनका मजहब कुछ भी रहा हो। इसलिए असम के सीएम का यह कहना पूरी तरह से गलत है कि आजादी के बाद ही देश में सेक्युलरिज्म आया।

इस बीच, कुटुम्ब सुरक्षा मिशन नामक एक हिंदू संगठन ने एआईयूडीएफ विधायक अमीनुल इस्लाम के बयानों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

टैग्स